Sunday , September 27 2020

2003 में सचिन से सचिन पाजी कैसे बने थे तेंदुलकर, आशीष नेहरा ने सुनाई दिलचस्प कहानी

टीम इंडिया के पूर्व बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर को कई नामों से पुकारा जाता है। फैंस ने उन्हें क्रिकेट का भगवान कहा साथ ही उन्हें मास्टर-ब्लास्टर के नाम से भी जाना जाता है। अब आशीष नेहरा ने बताया है कि सचिन के नाम के साथ पाजी शब्द कब और कैसे जुड़ा। टेस्ट व वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले सचिन तेंदुलकर को उनकी टीम के युवा खिलाड़ी सचिन पाजी कहकर बुलाते थे और भी ऐसा ही है। पाजी का मतलब बड़ा भाई होता है। यही नहीं जितने भी युवा क्रिकेटर हैं उन्हें इसी नाम से बुलाते हैं। ये सचिन के प्रति उनका प्यार और सम्मान प्रकट करने का तरीका है।

आशीष नेहरा ने खुलासा किया है कि साल 2003 वनडे वर्ल्ड कप के दौरान सचिन ने पाकिस्तान के खिलाफ 98 रन की पारी खेली थी और इसके बाद ही टीम के खिलाड़ियों ने उन्हें सचिन पाजी कहकर बुलाना शुरू किया था। स्टार स्पोर्ट्स के शो क्रिकेट कनेक्डेट में आशीष नेहरा ने बताया कि इससे पहले हम उन्हें सचिन या फिर सचिन भाई कहकर बुलाया करते थे। सचिन पाजी शब्द का इस्तेमाल पाकिस्तान के खिलाफ हुए मैच के बाद किया गया। नेहरा ने बताया कि मैच के बाद स्टेडियम से होटल आने के दौरान हरभजन सिंह पीछे थे और उन्होंने ‘पाजी नंबर वन’ ऐसा कुछ गाना शुरू कर दिया। इसके बाद से ही हम सबने उन्हें सचिन पाजी कहना शुरू कर दिया। वैसे उनसे पहले एक और पाजी थे और वो थे कपिल पाजी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति