Saturday , September 18 2021

चुनावी जीत पर पीएम मोदी को बधाई, बरखा दत्त को करारा जवाब, PM CARES को दान: नीरज चोपड़ा के पुराने ट्वीट हो रहे हैं वायरल

भारतीय एथलीट नीरज चोपड़ा ने भाला फेंक स्पर्धा में शनिवार को पहला स्थान हासिल कर किसी भी एथलेटिक्स में भारत का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया। उनकी जीत के तुरंत बाद भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बधाई दिए। इसके साथ ही देश भर से उन्हें शुभकामनाएँ मिलीं।

नीरज चोपड़ा को उनकी ऐतिहासिक उपलब्धि के लिए बधाई देते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने आधिकारिक हैंडल से ट्वीट किया, “नीरज चोपड़ा की अभूतपूर्व जीत! भाला फेंक स्पर्धा में आपका स्वर्ण पदक जीतना बाधाओं को तोड़ इतिहास रचता है। आप अपने पहले ओलंपिक में भारत को पहली बार ट्रैक और फील्ड मेडल दिलाए। आपका ये कार्य युवाओं को प्रेरणा देगा। भारत उत्साहित है! हार्दिक बधाई!”

चोपड़ा को स्वर्ण पदक जीतने की बधाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, “टोक्यो में इतिहास लिखा गया है! नीरज चोपड़ा ने जो आज हासिल किया है, उसे हमेशा याद रखा जाएगा। युवा नीरज ने असाधारण प्रदर्शन किया है। उन्होंने उल्लेखनीय जुनून के साथ खेला और अद्वितीय धैर्य दिखाया। स्वर्ण जीतने के लिए उन्हें बधाई।”

जीत के साथ ही नीरज चोपड़ा का पुराना ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा है। इनमें एक ट्वीट ऐसा है, जिसमें उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की जीत के लिए प्रधानमंत्री मोदी को बधाई दी थी। नीरज चोपड़ा ने ट्वीट किया था, “हमारा देश आपके नेतृत्व में नई ऊँचाइयों को छुए।”


फोटो साभार: नीरज चोपड़ा

दरअसल, टोक्यो ओलंपिक से ठीक पहले नीरज चोपड़ा ने उनकी सभी जरूरतों का ख्याल रखने के लिए मोदी सरकार को धन्यवाद ज्ञापित किया था। इसके अलावा, उन्होंने अपने प्रशिक्षण के दौरान, विशेष रूप से यूरोप में, कड़े वीजा नियमों के बावजूद समर्थन देने के लिए भारत सरकार को धन्यवाद दिया था।

ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद नीरज चोपड़ा का एक अन्य ट्वीट भी वायरल हो गया है। इसमें उन्होंने कोरोनो महामारी के दौरान पीएम केयर्स को 2 लाख रुपये और हरियाणा कोविड राहत कोष में 1 लाख रुपये दान करने की जानकारी दी थी।

एक अन्य ट्वीट में नीरज चोपड़ा ने फरवरी 2019 में भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े तनाव के दौरान ‘खेलो इंडिया’ कार्यक्रम आयोजित करने के मोदी सरकार के फैसले का बचाव किया था। दरअसल, विवादास्पद पूर्व टीवी एंकर और अब पूर्णकालिक यूट्यूबर बरखा दत्त ने पड़ोसियों से देश को खतरा होने के दौरान खेल आयोजनों के महत्व को लेकर मोदी सरकार की आलोचना की थी। इस पर नीरज ने पर मोदी सरकार के इस कदम का बचाव किया था।

बरखा दत्त की आलोचना के जवाब में चोपड़ा ने कहा था, “खेलों ने युवाओं को एकजुट करने और उनकी ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में प्रसारित करने में मदद की है। और ऐसा करने के लिए अब से बेहतर समय और क्या हो सकता है। यह एक अच्छी पहल है और इसकी आलोचना करना दुखद है।”

दिलचस्प बात यह है कि टोक्यो ओलंपिक से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने शुभकामना देने के लिए व्यक्तिगत रूप से नीरज चोपड़ा और उनके परिवार से बात की थी। चोपड़ा के साथ बातचीत में पीएम मोदी ने कहा था, “मुझे बताया गया है कि आप घायल हो गए, फिर भी आपने एक नया कीर्तिमान बनाया। आपको उम्मीदों के बहकावे में आने की जरूरत नहीं है, उम्मीदों का बोझ न उठाएँ, बस अपने लक्ष्य पर ध्यान दें।”

पीएम मोदी को जवाब देते हुए नीरज ने कहा, ‘मैं अपने खेल पर ध्यान दे रहा हूँ। मुझे जो कुछ भी चाहिए, उसमें सरकार मेरी मदद कर रही है। चोट के कारण हमारा करियर सीमित है, लेकिन मेरा पूरा ध्यान ओलंपिक पर है। कोविड-19 के कारण ओलंपिक स्थगित हो गया, लेकिन मैं आयोजन की तैयारी करता रहा।”

इस बीच नेटिजन्स ने नीरज चोपड़ा के उस पुराने ट्वीट्स पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है, जिसमें उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी के लिए आदर व्यक्त किया था। सोशल मीडिया यूजर्स ने बताया कि कैसे मोदी सरकार से भारतीय खिलाड़ियों को मिले समर्थन ने एथलीटों के लिए ओलंपिक जैसे उच्चतम स्पर्धा में पदक जीतने के लिए अनुकूल माहौल बनाया है।

सोशल मीडिया पर नीरज चोपड़ा के ट्वीट के फिर से सामने आने के बाद कुछ लोगों ने उदारवादियों पर कटाक्ष किया है। व्यंग्य करते हुए लोगों ने कहा कि वाम-उदारवादी उनके जीते हुए पदक को अब रद्द करा देंगे।

चोपड़ा के पदक के साथ भारत ने ओलंपिक में अपना अब तक का सबसे अधिक पदक जीतने का रिकॉर्ड बनाया है। मीराबाई चानू ने बॉक्सिंग में रजत पदक के साथ टोक्यो ओलंपिक में भारत का खाता खोला था। पीवी सिंधु ने बैडमिंटन में कांस्य पदक जीता।

कुश्ती में रवि दहिया ने रजत पदक जीता। लवलीना बोर्गोहेन ने मुक्केबाजी में कांस्य जीता, बजरंग पुनिया ने भी कुश्ती में कांस्य जीता। वहीं, भारतीय हॉकी टीम ने 41 साल बाद कांस्य पदक के साथ ओलंपिक में पदक जीती है।

भारतीय पहलवान बजरंग पुनिया ने शनिवार (7 अगस्त) को 65 किलोग्राम वर्ग में पुरुषों के फ्रीस्टाइल मैच में कजाकिस्तान के नियाजबेकोव दौलेट को हराकर टोक्यो ओलंपिक में कांस्य पदक जीता।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति