Tuesday , October 4 2022

‘केजरीवाल के निकम्मेपन में डूबी दिल्ली, सारा पैसा मौलानाओं की सैलरी में’: जलमग्न हुई राजधानी तो AAP सरकार पर भड़के लोग

नई दिल्‍ली। देश की राजधानी दिल्ली में बीते दिनों से हो रही बारिश बवाल बनकर सामने आई है। भारी जल जमाव के कारण सड़कें नाव चलाने लायक हो गई हैं। इस बारिश ने दिल्ली की केजरीवाल सरकार की तैयारियों के दावों की पोल खोल कर रख दी है। सोशल मीडिया पर लोग सीएम अरविंद केजरीवाल की आलोचना कर रहे हैं और कुछ उनके मजे भी ले रहे हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली के कई इलाके जलमग्न हो गए। रिंग रोड हयात होटल, सावित्री फ्लाई ओवर के दोनो ओर, महारानी बाग, निजामुद्दीन खट्टा, कैरिजवे धौला कुआँ से 11 मूर्ति, आनंद पर्वत गली नबंर 10, एसपी रोड से आरएमएल रोड, पुल प्रह्लादपुर अंडरपास, छत्ता रेल, विज्ञान भवन के पास मोती लाल नेहरू मार्ग और मौलाना आजाद रोड समेत कई इलाके जलमग्न रहे।

इस मामले में सोशल मीडिया के जरिए भाजपा ने कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री केजरीवाल पर निशाना साधते हुए कहा दिल्ली अब केजरीवाल के निकम्मेपन और भ्रष्टाचार में डूब गई है। मिश्रा ने ट्वीट किया, “आज दिल्ली बारिश में नहीं केजरीवाल के भ्रष्टाचार और निकम्मेपन में डूबी हुई है। दिल्ली में इंफ्रास्ट्रक्चर का सारा पैसा जिहादी तुष्टिकरण और मौलानाओं की सैलरी में देने वाली केजरीवाल सरकार ने पूरी दिल्ली को स्लम बना दिया है। दुनिया के सामने आज दिल्ली की हालत का मजाक बन गई है।”

भाजपा नेता के ट्वीट पर कमेंट करते हुए अल्का नाम की यूजर ने कॉन्ग्रेस कार्यालय के बाहर की तस्वीर भी शेयर की और तंज कसा कि बेतहाशा विकास में कॉन्ग्रेस का भविष्य भी डूब गया।

एक अन्य यूजर ने अरविंद केजरीवाल को सत्ता के मद में डूबा हुआ बताया।

रामेश्वर आर्य ने पुरानी दिल्ली के सदर बाजार का वीडियो शेयर किया, जिसमें सड़कों पर कमर भर पानी देखा जा सकता है।

पत्रकार आदित्य राज कौल ने दिल्ली के जलमग्न सड़कों पर सरपट दौड़ती गाड़ियों की तस्वीर शेयर करते हुए उसे नई दिल्ली रीवर फ्रंट सर्विस नाम दिया।

रोजी नाम की यूजर ने फ्लाईओवर के ऊपर से गिरते झरने को शेयर करते हुए केजरीवाल को धन्यवाद दिया।

आयुष जैन ने तो केजरीवाल को ‘निकम्मा और बेशर्म’ करार दिया। उन्होंने कहा कि जैसे आज दिल्ली डूबी उसी तरह से एक दिन केजरीवाल की राजनीति भी डूबेगी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.