Friday , September 24 2021

कोविड वैक्सीन से नपुंसक हुआ निकी के भाई का दोस्त, सूज गया अंडकोष: PM से लेकर सोशल मीडिया यूजर्स तक लगा रहे क्लास

ट्रिनिडाड टोबैगो में जन्मी अमेरिकी रैपर निकी मिनाज ने मंगलवार (14 सितंबर 2021) मेट गाला फंक्शन में कोविड वैक्सीनेटेड होने की शर्तों के कारण उसमें शामिल नहीं होने का ऐलान कर इंटरनेट पर तहलका मचा दिया। उन्होंने यह अफवाह फैला दी कि वैक्सीन लगवाने वाले नपुंसक हो रहे हैं। हालाँकि, उनके इस बयान का ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने आलोचना की है।

दरअसल, मिनाज ने कहा है उन पर दबाव डाला गया है कि वैक्सीन लगवाने के बाद ही वो इस कार्यक्रम में शामिल हो सकती हैं। उन्होंने कहा कि एक बार रिसर्च के बाद ही वो टीका लगवाएँगी। इसके अलावा से अपने फॉलोवर्स से डबल स्ट्रिंग वाला मास्क पहनने की अपील भी की है।

मिनाज ने त्रिनिदाद में अपने चचेरे भाई के दोस्त के बारे में एक किस्सा सुनाया। उन्होंने कहा, “त्रिनिडाड में मेरा चचेरा भाई इसलिए टीका नहीं लगवाएगा, क्योंकि उसका दोस्त टीका लगवाने के बाद नपुंसक हो गया है। कुछ सप्ताह में उसकी शादी होने वाली थी, लेकिन अब लड़की ने शादी से इनकार कर दिया है। आप प्रार्थना कीजिए और सुनिश्चित कीजिए कि आप वैक्सीनेशन के लिए सहज हैं और आप पर किसी तरह का दबाव नहीं है।”

उनके इस बयान पर ब्रिटेन के पीएम और मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी ने कहा कि वो निकी मिनाज की जगह डॉक्टर निकी कनानी की राय को प्राथमिकता देंगे। उन्होंने इसे बहुत ही खतरनाक ट्रेंड करार देते हुए कहा कि इतनी बड़ी सेलेब्रिटी कैसे गैर जिम्मेदाराना बयान दे रही हैं।

अभिनेत्री के इस ट्वीट पर नेटिजन्स ने मजे लेते हुए पूछा कि कहीं उनके कजिन के सूजे हुए अंडकोष ही उनके टीका नहीं लगवाने का कारण तो नहीं हैं?

लेखक कर्ट आइचेनवाल्ड ने सूजे हुए अंडकोष के संभावित कारणों की ओर इशारा करते हुए कहा कि हो सकता है कि वो एसटीडी के शिकार हों।

मिनाज का मजाक उड़ाते हुए मीम्स भी शेयर किए गए।

मेट गाला का संदर्भ देकर निकी के लिए मजे।

निकी मिनाज के चचेरे भाई के दोस्त के साथ सहानुभूति रखने वाले लोगों ने कहा कि अब उसे सूजे हुए अंडकोष का मुद्दा वैश्विक मीडिया द्वारा उछाला जाएगा। मजाक मत कीजिए।

हालाँकि, वैज्ञानिक शोधों में COVID के टीके को पूरी तरह से सुरक्षित बताया गया है, जिसके मुताबिक, टीके लगवाने से नपुंसकता नहीं आती।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति