Thursday , October 28 2021

डिप्टी सीएम के कार्यक्रम से पहले लखीमपुर में बवाल: भाजपा नेताओं को गाड़ी से निकालकर पीटा, भारी पुलिस बल तैनात

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में रविवार को किसानों ने जमकर बवाल काटा। किसानों ने उप-मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के हेलीकॉप्टर की लैंडिंग के लिए तिकोनिया में बनाए गए हेलीपैड को अपने कब्जे में ले लिया। तिकोनिया चौराहे से गुजरते वक्त काले झंडे दिखा रहे किसानों पर केंद्रीय मंत्री के बेटे अभिषेक मिश्रा ‘मोनू’ ने कार चढ़ा दी, जिसके बाद प्रदर्शन उग्र हो गया।

उग्र हुए किसानों ने वहाँ तोड़-फोड़ शुरू कर दी। प्रदर्शनकारियों ने मोनू की गाड़ी सहित दो गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। किसानों ने भाजपा नेताओं को गाड़ियों से बाहर खींचकर उनके साथ जमकर मारपीट की। किसानों के आक्रोश को देखते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य रास्ते से ही वापस लौट गए। बता दें कि उप-मुख्यमंत्री जिले को 117 करोड़ रुपए की सौगात देने के लिए आए थे और उन्होंने 165 परियोजनाओं की शुरुआत की।

इस बवाल की सूचना मिलते ही पहुँची पुलिस की टीमों ने किसानों को गन्ने के खेतों में खदेड़ दिया। स्थिति को पूरी तरह से कंट्रोल करने के लिए अतिरिक्त बलों को भी मंगाया गया है।

किसानों ने हेलीपैड पर किया कब्जा

रिपोर्ट के मुताबिक, लखीमपुर खीरी के तिकोनिया में बनाए गए हेलीपैड को किसानों ने सुबह से ही घेर लिया था। हालात को देखते हुए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य सड़क के रास्ते लखीमपुर खीरी पहुँचे। इस बीच प्रदर्शनकारी किसानों ने वहाँ पर डिप्टी सीएम के स्वागत में लगाए गए होर्डिंग को उखाड़ कर फेंक दिया।

तीन किसानों की मौत का दावा

भारतीय किसान यूनियन ने दावा किया है कि कार चढ़ाने से 3 किसानों की मौत हुई है और 8 घायल हुए हैं। गौरतलब है कि किसान संगठन केंद्र की मोदी सरकार द्वारा लाए गए तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं।

केंद्रीय मंत्री के ड्राइवर की मौत

इस बीच पीयूष तिवारी नाम के यूजर द्वारा शेयर किए गए वीडियो में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्र टेनी ने बताया है कि डिप्टी सीएम को रिसीव करने के लिए जो गाड़ी जा रही थी उसमें उनका ड्राइवर भी था और किसी ने पत्थर मार दिया, जिससे उसकी मौत हो गई।

 

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति