Tuesday , June 28 2022

जुमे पर हिंसा करने वालों को डच MP ने बताया ‘आतंकवादी’: कहा नूपुर शर्मा ‘साहसी महिला’, असहिष्णु के प्रति सहिष्णु होना बंद करो

भाजपा की पूर्व नेता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) द्वारा इस्लाम के पैगंबर मुहम्मद के कथित अपमान के नाम पर देश भर में फैलाई गई हिंसा को लेकर हॉलैंड के सांसद रॉबर्ट गीर्ट वाइल्डर्स (Robert Geert Wilders) ने नाराजगी जताई है। उन्होंने कहा कि अपराधी और आतंकवादी अपनी धार्मिक असहिष्णुता और घृणा व्यक्त करने के लिए सड़क पर हिंसा करते हैं।

हॉलैंड की सबसे बड़़ी पार्टी के प्रमुख और वहाँ की संसद में विपक्ष के नेता वाइल्डर्स ने ट्वीट कर कहा, “केवल अपराधी और आतंकवादी अपनी धार्मिक असहिष्णुता और घृणा व्यक्त करने के लिए सड़क पर हिंसा का उपयोग करते हैं। असहिष्णु के प्रति सहिष्णु होना बंद करो। हम जीवन को संजोते हैं, वे मृत्यु को संजोते हैं।”

उन्होंने नूपुर शर्मा को समर्थन देने का आह्वान करते हुए कहा कि अभिव्यक्ति की आजादी की कीमत होनी चाहिए। उन्होंने कहा, “हम आजादी का समर्थन करते हैं। साहसी नूपुर शर्मा हमारी ताकत की प्रतीक हैं। उसका समर्थन करो!”

गीर्ट ने अपने अगले ट्वीट में कट्टरपंथियों द्वारा नूपुर शर्मा को दी गई धमकी का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए लिखा, “यही है, जिसके कारण मैं बहादुर नूपुर शर्मा का समर्थन कर रहा हूँ। जान से मारने की सैकड़ों धमकियाँ। यह मुझे उनका समर्थन करने के लिए और भी अधिक दृढ़ बनाता है। क्योंकि, बुराई कभी नहीं जीत सकती। कभी नहीं।”

इसके पहले डच सांसद गीर्ट वाइल्डर्स (Geert Wilders) ने कहा था कि इस्लाम असहिष्णु है और इसकी विचारधारा दुनिया के लिए खतरा है। उन्होंने कहा कि भारत से माफी माँगने वाले मुल्क देश बेहद क्रूर शरिया शासन से संचालित होतेे हैं और उनका मानवाधिकार का ट्रैक रिकॉर्ड बेहद खराब है।

वाइल्डर्स ने कहा कि जो मुल्क अपने यहाँ के अल्पसंख्यकों की हत्या कर देते हैं और उन्हें जेल में डाल देते हैं, वे कानून द्वारा शासित एक लोकतांत्रिक देश से माफी की माँग करते हैं तो यह सबसे बड़ा पाखंड है। उन्होंने कहा कि दुनिया जानती है कि ईरान, कतर, सऊदी अरब जैसे इस्लामिक अपने अल्पसंख्यकों को कितना प्रताड़ित करते हैं। उन्होंने इस्लामिक देशों को सबसे बड़ा पाखंडी बताया।

वाइल्डर्स ने कहा कि नूपुर शर्मा ने जो पैगंबर मुहम्मद को लेकर जो कहा, वह सच है। सभी जानते हैं कि हदीसों में कहा गया है कि पैगंबर मुहम्मद ने जब आयशा से शादी की तब वह सिर्फ 9 साल की थी। उन्होंने कहा कि सच बोलने के लिए धमकियाँ मिलना हास्यास्पद है। भारत को सच बोलने वाली इस महिला पर गर्व करना चाहिए।

इतना ही नहीं, उन्होंने एक साक्षात्कार में कहा था, “इस्लाम कोई धर्म नहीं है, यह एक विचारधारा है, एक मंद संस्कृति की विचारधारा है।” जून 2018 में वाइल्डर्स ने अपनी पार्टी के संसदीय कार्यालयों में ‘पैगंबर मुहम्मद कार्टून प्रतियोगिता’ की आयोजित कराने की भी घोषणा की थी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.