आपकी ही कुछ गलतियां है कान में दर्द की वजह

कान शरीर के महत्वपूर्ण अंगों में से एक है,कुछ खास तरह की समस्याओं के कारण ही कान में दर्द होता है। कान का दर्द हमेशा असहनीय होता है। कभी-कभी यह दर्द कान से होकर सिर तक पहुंच जाता है। आइये जानते हैं कान में दर्द क्यों होता है।Image result for आपकी ही कुछ गलतियां है कान में दर्द की वजह

जरूरत से ज्यादा कान की सफाई करना

आप हमेशा कोशिश करते हैं कि आपका कान हमेशा साफ रहें। आपके कान में जरा भी गंदगी आती है तो आप उसे तुरंत साफ करने में लग जाते हैं। कान में जो वैक्स बनता उसे हर कोई तुरंत साफ करना चाहता है। जबकि यह वैक्स हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। कान में बनने वाला ये वैक्स कान के लिए वाटर प्रूफ शील्ड जैसा काम करता है। ज्यादा सफाई करने से कान के अंदर का वैक्स खत्म हो जाता है और कान के अंदर तरह – तरह के बैक्टीरिया कान में प्रवेश कर जाते हैं। यहीं बैक्टीरिया कान में दर्द का कारण बनता है। ज्यादा सफाई से यह परत हट जाती है इसलिए ही कान में अधिक दर्द होता है।

कान में संक्रमण के कारण

कान में आसानी से तरह पदार्थ प्रवेश कर जाता है। यह पदार्थ भी कई बार कान में दर्द का कारण बनता है। कानों में संक्रमण के कारण ही खसरा,मम्स आदि बीमारियां हो जाती है। कई बार इन बीमारियों के कारण कान की सुनने की क्षमता भी खत्म हो जाती है। कान में जब भी कोई तरह पदार्थ प्रवेश करें तो कान की अच्छे से सफाई करनी चाहिए।

कान में लगी चोट

अगर कान में कभी कोई चोट लगी हो तो उस कारण भी कान में दर्द हो सकता है। कभी अचानक भी कान में किसी तरह की कोई तकलीफ हो सकती है। ऐसा होने पर तुरंत डॉक्टर से मिलें।

कान की सफाई करते समय ध्यान रखने वाली बातें

Loading...

कान की सफाई थोड़े-थोड़े समय बाद करते रहना चाहिए।

जरूरत से ज्याद कान की सफाई नहीं करनी चाहिए। जब भी आपको अहसास हो कि कान में कोई तरह पदार्थ प्रवेश कर चुका है तो तुरंत ही डॉक्टर से संपर्क करें।

कानों में कभी भी तेल ना डालें।

ईयर बड से भी कभी कान की सफाई न करें क्योंकि यह कान के वैक्स को अंदर की तरफ धकेलता है और यह वैक्स अंदर जाकर शरीर को नुकसान पहुंचाता है और कान में तेज दर्द भी पैदा करता है।

कभी भी रास्ते पर सड़क पर कान साफ करने वालों से कान की सफाई न करवाएं, ऐसा करने से कान में संक्रमण होने का खतरा बढ़ सकता है।

कान की सफाई के लिए हमेशा पतली पिन का इस्तेमाल करना चाहिए।

Loading...

You may also like

भारत में 89% लोग तनाव का शिकार, वैश्विक औसत 86 फीसद

‘इस शहर में हर शख्स परेशान सा क्यूं