राष्ट्रपति का स्वागत होता रहा और अपनी कुर्सी से हिले तक नहीं कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी

स्वागत का एक दृश्य जिसमें सत्यदेव पचौरी बैठे हुए हैं।

लखनऊ। लखनऊ में आयोजित एक जिला एक उत्पाद समिट की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। जिसमें कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के स्वागत के दौरान अपनी सीट पर बैठे हुए हैं। जबकि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व राज्यपाल राम नाईक खड़े हैं।

दरअसल, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट समिट का शुक्रवार को उद्घाटन किया। उद्घाटन के बाद जिस समय राष्ट्रपति कोविंद को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रतीक चिन्ह देने के बाद शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया उस दौरान कैबिनेट मंत्री अपनी कुर्सी से खड़े नहीं हुए बल्कि आराम से बैठे रहे और पानी पीते रहे। जबकि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य व राज्यपाल राम नाईक ने राष्ट्रपति को पूरा सम्मान दिया। सत्यदेव पचौरी इस दौरान इस तस्वीर को कई बार ट्वीट किया गया।

सत्यदेव पचौरी यूपी के खादी ग्रामोद्योग व लधु उद्योग मंत्री हैं और वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट उनके मंत्रालय से ही जुड़ा हुआ है। हालांकि, उन्होंने समिट की तैयारियों पर काफी मेहनत की और अंतिम समय तक तैयारियों का जायजा लेते रहे। अपनी इस हरकत से वो सोशल मीडिया पर लोगों के निशाने पर आ गए।

सपा एमएलसी सुनील सिंह यादव ने तो मंत्री की इस हरकत को दलित उपेक्षा से जोड़ दिया और ट्वीट किया, ‘भाजपा की मनुवादी मानसिकता की इंतहा देखिये। राष्ट्रपति का सम्मान हो रहा है औऱ पंडित सत्यदेव पचौरी अपने आसान से हिल तक नहीं रहे। देश के सर्वोच्च आसन पर विराजमान व्यक्ति के सम्मान में आप इसलिये खड़े नहीं होंगे क्योंकि वो दलित समाज से हैं? भाजपा के दलित प्रेम को बयाँ करती एक तस्वीर!’

View image on Twitter

Loading...
View image on Twitter

Sunil Singh Yadav

@sunilyadv_unnao

की मनुवादी मानसिकता की इंतहा देखिये। राष्ट्रपति का सम्मान हो रहा है औऱ पंडित सत्यदेव पचौरी अपने आसान से हिल तक नहीं रहे। देश के सर्वोच्च आसन पर विराजमान व्यक्ति के सम्मान में आप इसलिये खड़े नहीं होंगे क्योंकि वो दलित समाज से हैं? भाजपा के दलित प्रेम को बयाँ करती एक तस्वीर!

Loading...

You may also like

मैं लखनऊ का था, हूं और लखनऊ का ही रहूंगा… अटल

लखनऊ। अटल विहारी वाजपेयी लखनऊ में जब कभी