Monday , November 19 2018

राम मंदिर निर्माण पर बोले यूपी के डिप्टी सीएम, कोर्ट में मामला होने के कारण हम कुछ नहीं कर सकते

लखनऊ। अयोध्या की विवादित राम जन्मभूमि मामले पर यूपी के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने बड़ा दिया है. केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि राम मंदिर मामले में कुछ नहीं कर सकते हैं. सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि कोर्ट में मामला लंबित होने के कारण यूपी की सत्तासीन योगी सरकार और केंद्र सरकार कुछ नहीं कर सकती है.

अयोध्या को राममय बनाएंगे-मौर्य
केशव प्रसाद मौर्य ने एक बार फिर से दावा किया कि कोर्ट का फैसला आते ही अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण कराया जाएगा. उन्होंने कहा कि अयोध्या को राममय बनाना सरकार की जिम्मेदारी है, लेकिन देरी सिर्फ कोर्ट के फैसले में हैं. राम मंदिर का मामला कोर्ट में विचाराधीन है, हम इसमें कुछ नहीं कर सकते, लेकिन कोई भी अयोध्या में ‘राम लला’ की भव्य मूर्ति बनाने से हमें नहीं रोक रहा है. अगर कोई हमें रोकेगा तो हम उसे देख लेगें. अयोध्या का विकास करने से हमें रोक कोई भी नहीं सकता.

अयोध्या में राम की प्रतिमा बनाएगी सरकार
केशव प्रसाद मौर्य का बयान ऐसे समय में आया है जब योगी सरकार की ओर से अयोध्या में भव्य राम की प्रतिमा बनाने का ऐलान किया गया है. शुक्रवार को अयोध्या नगर निगम के महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने कहा, ‘‘अयोध्या में सरयू नदी के तट पर भगवान राम की 151 मीटर लंबी प्रतिमा बनाने का प्रस्ताव है. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ देव दीपावली के अवसर पर इसकी घोषणा कर सकते हैं.’’ बीजेपी नेता उपाध्याय ने कहा, ‘‘जहां प्रतिमा की स्थापना की जाएगी, उस जगह का चुनाव मिट्टी परीक्षण के बाद किया जाएगा.

Loading...

दिवाली पर मिलेगी गुड न्यूज
वहीं, राम की प्रतिमा का निर्माण कराए जाने पर बोलते हुए बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नाथ पांडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या को लेकर कोई योजना बनाई होगी जो भगवान राम की जन्मभूमि है. उन्होंने कहा कि दीपावाली आने दीजिये, आपको अच्छी खबर मिलेगी.

Loading...

About I watch

Check Also

बैंक डि‍फॉल्‍टर्स पर सीआईसी सख्‍त, जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने वालों के नाम बताने का दि‍या आदेश्‍ा

नई दिल्ली। केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने रिजर्व बैंक (आरबीआई) और प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *