Wednesday , January 16 2019

कुलदीप-चहल को मिला धोनी का साथ, जडेजा-कार्तिक-खलील रह गए अकेले

क्रिकेट के मैदान पर सभी खिलाड़ी एक साथ एक टीम होते हैं. लेकिन मैदान से बाहर भी ऐसा हो, यह जरूरी नहीं है. मैदान के बाहर खिलाड़ी अक्सर ग्रुप में बंटे नजर आते हैं. वे किसी खास खिलाड़ी के साथ रहना पसंद करते हैं. कई बार ऐसा भी होता है कि वे फुरसत के इन पलों का इस्तेमाल अपने सीनियर्स से टिप्स लेने के लिए भी करते हैं. भारतीय टीम जब सिडनी में पहला वनडे खेलने के लिए होटल से बाहर निकली तो उसके खिलाड़ी ऐसे ही छोटे-छोटे ग्रुपों में बंटी नजर आई.

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने होटल से बाहर निकलने का एक वीडियो ट्वीट किया है. इसमें खिलाड़ियों के इन छोटे-छोटे ग्रुपों को देखा जा सकता है. जैसे कि वीडियो में सबसे पहले रोहित शर्मा दिखते हैं. वे केदार जाधव के साथ बतियाते हुए निकल जाते हैं.

कुछ सेकंड बाद भुवनेश्वर कुमार और शिखर धवन की जोड़ी सामने आते है. उनके पीछे खलील अहमद हाथ में पानी की बोतल लिए अकेले चले आ रहे हैं. खलील के बाद तीन खिलाड़ी एक साथ नजर आते हैं. ये खिलाड़ी कोई और नहीं, एमएस धोनी, कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल हैं. तीनों ही आपस में बात करते आ रहे हैं. स्पिनरों के लिए जरूरी है कि उनकी विकेटकीपर से समझ हो. इस वीडियो को देखकर यह साफ है कि कम से कम भारतीय टीम में ऐसा ही है. वैसे तो रवींद्र जडेजा भी स्पिनर ही हैं, लेकिन वे धोनी-कुलदीप-चहल के बाद अकेले मोबाइल में खोए हुए नजर आए.

 

 

 

दिनेश कार्तिक हमेशा की तरह जल्दी में दिखे 
रवींद्र जडेजा के बाद दिनेश कार्तिक आते हैं. कार्तिक को आप जब भी देखेंगे तो लगता है कि वे किसी जल्दबाजी में हैं. इस वीडियो में भी ऐसा ही है. उन्हें देखकर लगता है कि वे शायद सबसे पीछे रह गए हैं और टीम की बस निकलने वाली है. लेकिन एक सेकंड के भीतर ही यह कयास गलत साबित हो जाता है क्योंकि कार्तिक के पीछे रवि शास्त्री अपनी चिरपरिचित शैली में मस्ती में चले आ रहे हैं. उनके बाद अंबाती रायडू हेडफोन लगाए निकल जाते हैं.

कप्तान कोहली और बैटिंग कोच एक साथ
वीडियो में सबसे अंत में कप्तान विराट कोहली दिखते हैं. उनके साथ बैटिंग कोच संजय बांगड़ हैं. ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय बल्लेबाजी पर सबसे नजर रहेगी. टीम वनडे सीरीज के दौरान बल्लेबाजी में कुछ प्रयोग भी करेगी. जाहिर है इसमें बैटिंग कोच की भी अहम भूमिका होगी. कप्तान विराट कोहली और बांगड़ शायद यही बात कर रहे होंगे.

Loading...

About I watch

Check Also

बड़ा सवालः क्या फर्जी हैं योगी राज में हुए एनकाउंटर?

लखनऊ। 23 महीने. 13 सौ एनकाउंटर. 60 मौत. 350 घायल और 3 हज़ार से ज़्यादा ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *