Tuesday , July 23 2024

मायावती पर चंद्रशेखर का तंज, बोले- बहकावे में नहीं आने वाला बहुजन समाज

लखनऊ। भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती पर निशाना साधा है. परिवारवाद का जिक्र करते हुए का चंद्रशेखर ने कहा कि कांशीराम चाहते तो वो भी अपनी विरासत अपने परिवार को दे सकते थे. अब बहुजन समाज आपके (मायावती) बहकावे में नहीं आने वाला है.

चंद्रशेखर ने कहा, ‘कांशीराम की राजनीति राजकुमार बनाने की नहीं, बल्कि राजकुमारों को, रजवाड़ों को गिराने की थी. पंक्ति में आखिरी में खड़े बहुजन समाज के व्यक्ति को नेता बनाने की थी. चाहते तो वो भी अपनी विरासत अपने परिवार को दे सकते थे. बाकी कहने को ज्यादा कुछ बचा नंही है. बस आकाश आनंद जी को बधाई.’

Chandra Shekhar Aazad@BhimArmyChief

मा साहेब कांशीराम जी की राजनीति राजकुमार बनाने की नही बल्कि राजकुमारों को,रजवाड़ो को गिराने की थी,पंक्ति में आखिरी में खड़े बहुजन समाज के व्यक्ति को नेता बनाने की थी चाहते तो वो भी अपनी विरासत अपने परिवार को दे सकते थे बाकी कहने को ज्यादा कुछ बचा नही है बस आकाश आनंद जी को बधाई

422 people are talking about this
इसके बाद चंद्रशेखर ने कहा, ‘मैंने चुनाव से पहले बार बार कहा था कि प्रमोशन में रिजर्वेशन बिल पर अखिलेश यादव को अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए, तब आप चुप रही अब जब चुनाव हार गए तो अब आपको प्रमोशन में रिजर्वेशन बिल याद आ रहा है. बहुजन समाज अब आपके बहकावे में नही आने वाला है.’

असल में, मायावती ने लोकसभा चुनाव नतीजों के पार्टी ढांचे में अहम बदलाव किए हैं. इसके तहत मायावती के भाई आनंद कुमार को एक बार फिर पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है. वहीं मायावती के भतीजे आकाश आनंद को राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी दी गई है. साथ ही पार्टी में राष्ट्रीय स्तर पर दो समन्वयक बनाए गए हैं. मौजूदा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम अब राष्ट्रीय समन्वयक की जिम्मेदारी संभालेंगे. दानिश अली को लोकसभा में बीएसपी का नेता बनाया गया है.

भाई और भतीजे को पार्टी में अहम पद दिए जाने के बाद मायावती के परिवारवाद को लेकर आलोचना हो रही है. बीजेपी विपक्ष की अन्य पार्टियों के साथ बसपा को भी एक परिवार की जागिर बता रही है.

वहीं मायावती के इसी कदम पर चंद्रशेखर ने भी सवाल उठाए हैं और कहा कि कांशीराम चाहते तो वो भी अपनी विरासत अपने परिवार को दे सकते थे. अब बहुजन समाज आपके (मायावती) बहकावे में नहीं आने वाला है. चंद्रशेखर ने कहा, ‘कांशीराम की राजनीति राजकुमार बनाने की नहीं, बल्कि राजकुमारों को, रजवाड़ों को गिराने की थी. पंक्ति में आखिरी में खड़े बहुजन समाज के व्यक्ति को नेता बनाने की थी.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch