Monday , April 19 2021

जामिया और AMU में प्रदर्शन को लेकर SC में कल CJI बेंच करेगी सुनवाई

3 याचिकाओं पर मंगलवार को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

जामिया और AMU प्रदर्शन मामले पर सुनवाई

नई दिल्ली। जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी और अलीगढ़ यूनिवर्सिटी के छात्रों के प्रदर्शन मामले पर दाखिल 3 याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई करेगा. मुख्य न्यायाधीश की अगुवाई वाली पीठ मंगलवार को इस मामले की सुनवाई करेगी. बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया.

रविवार को यह विरोध प्रदर्शन हिंसक हो गया. दिल्ली में प्रदर्शनकारियों ने कई बसें और बाइक फूंक दी. उपद्रवियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े. इसके बाद पुलिसकर्मियों ने अराजक तत्वों के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय में घुसे होने के संदेह पर कैंपस से सभी छात्रों को बाहर निकाल दिया.

उधर, नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में भी रविवार देर रात हुए प्रदर्शन में तीन छात्र घायल हो गए. पुलिस ने 21 छात्रों को गिरफ्तार किया. इसके साथ ही एएमयू 5 जनवरी तक बंद कर दिया गया.

मऊ और वाराणसी में भी प्रदर्शन

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है. दिल्ली समेत देश के दूसरे हिस्सों में भी हिंसा की लपटें पहुंचनी शुरू हो गई हैं. मऊ में उग्र भीड़ ने सड़क पर खड़ी कई गाड़ियों के शीशे तोड़ दिए हैं. उग्र भीड़ ने नरेंद्र मोदी और योगी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. इस विरोध प्रदर्शन का असर दक्षिण टोला थाना क्षेत्र अंतर्गत मिर्जाहादीपुरा चौराहे पर सबसे ज्यादा देखने को मिला. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैंस के गोले भी छोड़े हैं, साथ ही उग्र विरोध प्रर्दशन करने वालों को हटाया जा रहा है.

वहीं, नागरिकता कानून के खिलाफ ज्वाइंट एक्शन कमेटी के छात्रों ने प्रदर्शन किया है. बीएचयू के गेट पर एबीवीपी और विरोध करने वाले छात्र आमने-सामने आ गए. सीएम और पीएम के खिलाफ़ नारे लागाने के कारण एबीवीपी के छात्रों में आक्रोश है. पुलिस और एबीवीपी के छात्रों में धक्का मुक्की हुई है. पुलिस ने एबीवीपी छात्रों और प्रदर्शन करने वाले छात्रों को अलग किया.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति