Tuesday , October 4 2022

कही-अनकही सचकही

गौशालाओं की दशा व उसके आर्थिक सुधार की संभावनाएं

अज़ीम मिर्ज़ा गाय को रहने के लिए कितनी जगह चाहिए, उसको कितना भोजन चाहिए, उसको बीमार होने पर क्या दवा दी जानी चाहिए। यह मुझे नहीं मालूम। यह शब्द हैं पूर्वी उत्तर प्रदेश के बहराइच जनपद अंतर्गत कैलाशनगर वासी तुलसीराम के। वह आगे बताते हैं कि हमारे गाँव में बेसहारा ...

Read More »

अभाव के अनुभूति के बिना संस्कारवान नहीं हो सकता है स्वभाव (शिक्षक दिवस- पांच सितम्बर पर विशेष)

स्वाती सिंह पहले एमबीए, बीटेक आदि में लगभग सभी छात्र सामान्य से कुछ ऊपर परिवारों से ही आते थे। उनमें हर वक्त स्मार्ट बने रहने की ललक भी दिखती थी, यह ललक अब भी दिखती है लेकिन इसी में कुछ ऐसे भी आते हैं, जो अभाव में जिंदगी गुजारकर भी ...

Read More »

गुरु बिन ज्ञान न उपजै

डॉ. सौरभ मालवीय  हमारे जीवन में गुरु अथवा शिक्षक का अत्यंत महत्वपूर्ण स्थान है। गुरु ज्ञान का भंडार होता है। वह हमें ज्ञान देता है, हमारा पाठ आलोकित करता है। ज्ञान वह अमूल्य वस्तु है, जिसे कोई चुरा नहीं सकता। ज्ञान ऐसा कोश है, जिसमें से जितना व्यय करो वह उतना ही बढ़ता जाता है। गुरु ही हमारे ...

Read More »

अबला कभी रही होगी ! अब तो बुलंदी पर है !

के. विक्रम राव इस्लामी जम्हूरिया की दो तरुणिओं समीना बेग (पाकिस्तान) और अफसानेह हेसामिफर्द (ईरान) ने विश्व में सबसे ऊंची चोटी (एवरेस्ट के बाद) काराकोरम पर्वत श्रंखला पर फतह हासिल कर, जुमे (22 जुलाई 2022) की नमाज अता की थी, तो हर खातून को नाज हुआ होगा। सिर्फ सरहद पर ...

Read More »

रुपये का गिरना समस्या है तो वरदान भी

मैं सोचता हूं कि इस बात को कितने लोग समझते होंगे कि जापान और चीन ने कैसे जानबूझकर अपनी मुद्राओं की कीमत कम रखी- सिर्फ इसलिए ताकि निर्यात बाजार में उनके उत्पाद धूम मचा सकें। अब यह तो सभी लोग जानते होंगे कि इन दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाओं ने पिछले ...

Read More »

बाल विधवा इस्पाती नेता बनी !

के. विक्रम राव यह दास्तां है एक कन्या की जो आठ साल की आयु में विधवा हो गयी थी। वह बड़ी होकर भारत की लौह नारी बनी। आज (15 जुलाई 2022) उनकी 113वीं जयंती है। इस अल्पायु सत्याग्रही को राष्ट्रीय कांग्रेस के कई कर्णधार लोग जानते थे। उनमें महात्मा गांधी ...

Read More »

हामिद अंसारी फिर खबरों में !

के. विक्रम राव आज देश के दैनिक इस खबर से भरे पड़े हैं कि रिटायर्ड उपराष्ट्रपति जनाब मोहम्मद हामिद अंसारी मियां ने भारतीय गुप्तचर संस्था (रॉ) को तेहरान में जोखिम में डाल दिया था। तब अंसारी ईरान में भारतीय राजदूत थे। पत्रिका ”सण्डे गार्जियन”,आईटीवी द्वारा प्रकाशित, ने छापा कि ”रॉ” ...

Read More »

भाई को किया दरकिनार, बाहरी ने कर दिया उद्धव ठाकरे का काम तमाम!

बिकेश तिवारी शिवसेना की पहचान से जुड़े हैं दहाड़ता शेर और प्रखर हिंदुत्व. आज शिवसेना का दहाड़ता शेर खामोश है. जो हिंदुत्व पार्टी की पहचान रहा, उसी हिंदुत्व के मसले पर पार्टी आंतरिक कलह के ऐसे भंवर में फंसी है कि महाराष्ट्र की सत्ता से बेदखल होने की नौबत आ ...

Read More »

तुम मगध का दुर्भाग्य हो घनानन्द!

सर्वेश तिवारी श्रीमुख हप्ते भर पहले ही विद्यापति नगर से वह बर्बर तस्वीर आयी थी, जब घोर दरिद्रता के कारण एक ब्राह्मण परिवार ने दो छोटे छोटे बच्चों समेत सामूहिक फाँसी लगा ली थी। उस तस्वीर पर किसी को शर्म नहीं आयी। न सत्ता को, न विपक्ष को, न बौद्धिक ...

Read More »

‘कब्ज़ा कर के बनाई गई मस्जिद को गिरा दो’: मंदिरों को ध्वस्त कर बनाए गए मस्जिदों पर बोले थे गाँधी – मुस्लिम खुद सौंप दें ऐसे स्थल

27 मंदिरों को तोड़कर बनी कुतुब मीनार और भगवान शिव की मंदिर के ऊपर बने ज्ञानवापी को लेकर देश भर में मंदिर और मस्जिद की डिबेट हो रही है। मुगल आक्रांताओं ने हजारों मंदिरों को तोड़कर मस्जिदें बनवाईं। क्या तलवार के बल पर जबरन जिन स्थानों पर मंदिरों को तोड़कर ...

Read More »

साहित्य ही कराता है मानवता का ज्ञान, प्रो. अरुण कुमार भगत!

“साहित्य संवेदना के धरातल पर पुष्पित, पल्लवित और फलित होता है, हमें अपनी संस्कृति की रक्षा के लिए सबसे पहले मानवीय संवेदना की रक्षा करनी होगी।” यह कहना था साहित्य अकादमी समेत देश के अनेक बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य प्रो अरुण कुमार भगत जी का, जो करवतही बाजार में संस्कार ...

Read More »

AAP की दिल्ली, खालिस्तान… पंजाब का एग्जिट पोल खतरे की घंटी या फिर 2017 की तरह 10 मार्च को बिखर जाएगी झाड़ू

अनुपम कुमार सिंह पंजाब में हुए विधानसभा चुनाव के बाद सारे एग्जिट पोल्स इसी तरफ इशारा कर रहे हैं कि राज्य में ‘आम आदमी पार्टी (AAP)’ की सरकार बनेगी। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की पार्टी को 100 सीटें तक मिलते हुए दिखाया गया है। कभी अभिनेता और कॉमेडियन रहे ...

Read More »

नेताजी को प्रथम प्रधानमंत्री माना जाये ?

के. विक्रम राव Twitter ID: @Kvikramrao सुभाष बाबू पर मेरे दोनों पोस्ट पर कई प्रतिक्रियायें आयीं, लिखित तथा फोन पर। नीक लगा। मेरी मान्यता है कि नेताजी स्वतंत्रता इतिहास के सर्वाधिक त्रासदपूर्ण नायक हैं। शेक्सपियर होते तो एक दुखांत नाटक लिख डालते। एक संघर्षशील जननायक जो स्वनिर्मित था। दुनियादारीभरे प्रपंची ...

Read More »

‘हिंदू लड़कियों को पसंद है मुस्लिमों का…’ से लेकर ‘हिंदू रखैल… मुस्लिम मर्द की दीवानी’: सोशल मीडिया पर धर्म को निशाना बना अश्लीलता, जुड़े हैं हजारों

सोशल मीडिया पर महिलाओं को निशाना बनाया जा रहा है, वो भी धर्म के आधार पर। कई ऐसे कंटेंट्स सामने आए हैं, जिनसे पता चलता है कि हिन्दू महिलाओं की प्राइवेसी भंग कर के उन्हें बदनाम किया जा रहा है। मुस्लिम पुरुषों के साथ उनके नाम जोड़ कर उन्हें सरेआम ...

Read More »

कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है…

सर्वेश कुमार तिवारी क्या होता यदि सम्राट अशोक और उनके बाद के कुछ भारतीय सम्राटों के समय तात्कालिक पश्चिमोत्तर भारत( आज का पाकिस्तान, अफगानिस्तान) बौद्ध नहीं हुआ होता। उधर के लोग युद्ध का त्याग नहीं किये होते, तो क्या अरब से निकला कोई मोहम्मद बिन कासिम इतनी आसानी से सबको ...

Read More »