Sunday , January 17 2021

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

 

भारत और चीन के बीच लद्दाख में जारी विवाद सोमवार रात को हिंसक झड़प में तब्दील हो गया. इस झड़प में भारतीय सेना का एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए हैं. यह घटना तब हुई जब सोमवार रात को गलवान घाटी के पास दोनों देशों के बीच बातचीत के बाद सबकुछ सामान्य होने की स्थिति आगे बढ़ रह थी. इस विवाद के बीच जानते हैं कि आख‍िर चीन और भारत के बीच झड़प में गोलीबारी क्यों नहीं होती. क्या है साल 1993 में हुआ वो समझौता जो तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्‍हा राव ने चीन की यात्रा के दौरान किया था.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

बता दें कि चीन के साथ लगी लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (LAC) करीब 3,488 किलोमीटर की है, जबकि चीन मानता है कि यह बस 2000 किलोमीटर तक ही है. साल 1991 में तत्‍कालीन चीनी प्रधानमंत्री ली पेंग भारत दौरे पर आए थे. तब तत्‍कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्‍हा राव ने ली के साथ एलएसी शांति और स्थिरता बनाए रखने को लेकर बातचीत की थी.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

इसके बाद प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव साल 1993 में चीन के दौरे पर गए. इसी दौरान दोनों देशों के बीच एलएसी पर शांति बरकरार रखने के लिए एक समझौता किया गया. समझौते के तहत 9 बिंदुओं पर आम सहमति बनी. इसमें से आठ बहुत महत्‍वपूर्ण माने गए थे. समझौते को भारत के तत्‍कालीन विदेश राज्‍य मंत्री आर एल भाटिया और तत्‍कालीन चीनी उप विदेश मंत्री तांग जियाशुआन ने साइन किया था.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

इस समझौते की मुख्य बात यह थी कि भारत-चीन सीमा विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने पर जोर दिया जाएगा. इसमें तय हुआ कि दूसरे पक्ष के खिलाफ बल या सेना प्रयोग की धमकी नहीं दी जाएगी. दोनों देशों की सेनाओं की गतिविधियां वास्तविक नियंत्रण रेखा से आगे नहीं बढ़ेंगी. अगर एक पक्ष के जवान वास्तविक नियंत्रण की रेखा को पार करते हैं, तो उधर से संकेत मिलते ही तत्काल वास्‍तवित नियंत्रण रेखा में वापस चले जाएंगे.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

दोनों देशों के बीच मैत्रीपूर्ण संबंधों के लिए वास्तविक नियंत्रण रेखा पर हर पक्ष की ओर से कम से कम सैन्य बल रखा जाए. नियंत्रण रेखा पर सैन्य बलों की सीमा, इसकी संख्या बढ़ाने आदि के लिए दोनों देशों के बीच आपसी सलाह-मशवरा करके निर्धारित होगा.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

मिलिट्री एक्‍सरसाइज की जानकारी दें
समझौते के अनुसार दोनों पक्ष विश्वास बहाली के उपायों के जरिये वास्तविक नियंत्रण रेखा के इलाकों में काम करेंगे. सहमति से पहचाने गए क्षेत्रों में कोई भी पक्ष सैन्य अभ्यास के स्तर पर कार्य नहीं करेगा. हर पक्ष इस समझौते के तहत वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अलग-अलग स्तरों के सैन्य अभ्यास की पूर्व सूचना देगा.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

भारत चीन की LAC पर दोनों तरफ से हवाई घुसपैठ न हो इसके लिए समझौते में तय किया गया दोनों देशों की एयरफोर्स सीमा क्रास नहीं करेंगी.  दोनों पक्ष वास्तविक नियंत्रण की रेखा पर स्थित क्षेत्रों में एयर एक्‍सरसाइज या हवाई अभ्यास पर संभावित प्रतिबंधों पर भी विचार करेंगे.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

1993 के समझौते के अनुसार सीमा से जुड़े मसलों पर दोनों देशों की तरफ से एक ज्‍वॉइन्‍ट वर्किंग ग्रुप बनाया जाएगा जिसमें कूटनीति और सेना के विशेषज्ञ होंगे. ग्रुप का गठन भी आपसी परामर्श से होगा.

भारत-चीन सीमा पर भिड़ंत में क्यों नहीं होती फायरिंग, ये समझौता है वजह

इस तरह के तमाम समझौतों के बावजूद एलएसी पर जवानों के शहीद होने की खबर आई है. भारतीय सेना की ओर से जारी किए गए आधिकारिक बयान में कहा गया है, ‘गलवान घाटी में सोमवार की रात को डि-एस्केलेशन की प्रक्रिया के दौरान भारत और चीन के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. इस दौरान भारतीय सेना के एक अफसर और दो जवान शहीद हो गए हैं. दोनों देशों के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी इस वक्त इस मामले को शांत करने के लिए बड़ी बैठक कर रहे हैं’.

 

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति