Monday , July 6 2020

चीन से लगती सीमा पर तेज होगा सड़कों के निर्माण का काम, केंद्र सरकार ने जारी किए निर्देश

नई दिल्‍ली। एलएसी पर जारी तनाव के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने चीन से लगती सीमा पर सड़कों के निर्माण का काम तेज करने का फैसला है। गृह मंत्रालय के अधीन काम करने वाले सीमा प्रबंधन (Border Management) के सचिव संजीव कुमार ने सोमवार को एक हफ्ते में दूसरी बार वास्तविक नियंत्रण रेखा यानी एलएसी (Line of Actual Control, LAC) के साथ लगते क्षेत्रों में बुनियादी ढांचे के विकास को लेकर जारी परियोजनाओं की समीक्षा की। इस बैठक में चीन से लगती सीमा के साथ सड़कों के निर्माण के काम में तेजी लाने का फैसला किया गया।

केंद्रीय गृह मंत्रालय के सूत्रों ने बताया कि बैठक में भारत-चीन सीमा पर 32 सड़क परियोजनाओं की समीक्षा की गई और काम में तेजी लाने और जल्द से जल्द परियोजनाओं को पूरा करने का फैसला लिया गया। मंत्रालय में आयोजित इस उच्च-स्तरीय बैठक में सीमा सड़क संगठन, ITBP और CPWD के अधिकारियों ने भाग लिया। सूत्रों ने बताया कि लद्दाख क्षेत्र में सीमा सड़क संगठन यानी बीआरओ द्वारा तीन महत्वपूर्ण सड़कों के निर्माण का काम चल रहा है। बैठक में परियोजना को समय सीमा के भीतर पूरा करने का फैसला लिया गया है।
सूत्रों का कहना है कि लद्दाख क्षेत्र में जिन तीन सड़कों के निर्माण का कार्य चल रहा है उन्‍हें समय सीमा के भीतर पूरा करने के लिए सरकार ने स्‍पष्‍ट रूप से कहा है कि बीआरओ को इसके लिए जो भी सुविधाएं चाहिए वे तत्‍काल मुहैया कराई जाएंगी। ऐसे समय जब पूर्वी लद्दाख में चीनी सेना के साथ तनातनी जारी है… इस बैठक में लिए गए फैसले बेहद महत्‍वपूर्ण माने जा रहे हैं। इस फैसले की अहमियत का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि एलएसी पर भारत की ओर संचालित इन परियोजनाओं पर चीन आपत्ति जता रहा है।

केंद्र सरकार ने साफ कर दिया है कि चीन चाहे जितनी भी गीदड़भभकी क्‍यों न दे एलएसी पर सड़कों के निर्माण का काम लगातार जारी रहेगा। सरकार का स्‍पष्‍ट तौर पर कहना है कि किसी भी सूरत में एलएसी पर सड़के बनाने का काम नहीं रोका जाएगा। यही नहीं सरकार ने साफ कर दिया है कि वह एलएसी पर चीन की किसी हरकत को बर्दाश्त करने को तैयार नहीं है। सरकार ने तीनों सेनाओं को चीन की हर चालबाजी का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए खुली छूट दे दी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने तीनों सेना प्रमुखों से कहा है कि चीन की ओर से होने वाली हर गतिविधि पर पैनी नजर रखी जाए।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति