Tuesday , May 28 2024

आप राजस्‍थान में उलझे हैं उधर छत्‍तीसगढ़ सरकार में भी उथल-पुथल की खबर, वरिष्‍ठ नेता का बड़ा खुलासा

छत्तीसगढ़। मध्‍यप्रदेश में कांग्रेस को अपने ही विधायकों के असंतोष को भाजन बनना पड़ा और 15 साल बाद मिली सत्‍ता को डेढ़ साल में ही गंवाकर विपक्ष में बैठना पड़ा । वहीं राजसथान में भी कांग्रेस विधायकों के असंतोष के कारण सियासी भूचाल मचा हुआ है । दोनों राज्यों में कांग्रेस के ऐसे हालात के बीच राजनीतिक विशेषज्ञों की नजर छत्तीसगढ़ पर टिकी हैं । दरअसल राजस्थान, मध्य प्रदेश के साथ छत्तीसगढ़ में भी विधानसभा चुनाव हुए थे, तीनों ही राज्यों में सत्ताधारी दल बीजेपी को हार मिली और कांग्रेस को जीत मिली । दरअसल छत्तीसगढ़ में बीजेपी नेता के एक बयान बाद सियासी उथल पुथल की संभावना जताई जा रही है ।

बीजेपी के पूर्व मंत्री का बयान

छत्तीसगढ़ में भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल की ओर से एक बयान आया है । जिसमें पूर्व मंत्री कह रहे हैं  brij mohan agrawalकि मध्य प्रदेश और राजस्थान की तरह ही छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस विधायकों में असंतोष है । इसीलिए आनन – फानन में 15 संसदीय सचिवों की नियुक्ति की गई है ।  अग्रवाल के मुताबिक इस के कारण निगम मंडलों में भी नियुक्तियों की कवायद की जा रही है । यह प्रक्रिया मध्यप्रदेश और राजस्थान का असर है ।

कांग्रेस विधायकों में बहुत ज्‍यादा असंतोष

बृजमोहन अग्रवाल ने आगे कहा है कि राज्य में कांग्रेस के विधायकों में बहुत ज्यादा असंतोष है । हो सकता है कि राज्‍य में वहीं हालात बन जाएं जो कि मध्‍यप्रदेश और अब राजस्‍थान में । हालांकि पूर्व मंत्री के इस बयान पर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह का पलटवार आया है । सिंह ने कहा कि बीजेपी के नेता ऐसे कयास लगाने और सरकार को कमजोर करने की कवायदें बंद कर दें ।

दिग्विजय सिंह का पलटवार

बीजेपी नेता बृजमोहन अग्रवाल को दिग्विजय सिंह ने जवाब देते हुए कहा – बीजेपी और बृजमोहन अग्रवाल नीलामी करने बैठे हैं । बीते बुधवार को ही रायपुर दौरे के दौरान दिग्विजय सिंह ने कहा कि इतना पैसा आ गया है भाजपा और बृजमोहन जी के पास कि वह जिस तरह से नीलामी होती है नीलामी करने बैठे हैं । राजस्थान को लेकर जब उनसे पूछा गया तो उन्‍होने कहा कि वह राजस्थान के प्रभारी नहीं हैं और वह जयपुर भी नहीं गए हैं । इसलिए उन्हें वहां के बारे में कोई जानकारी नहीं है ।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch