Sunday , May 26 2024

चाइना थिंक टैंक ने कहा, शंघाई से 100 किलोमीटर से भी कम दूरी पर उड़ा अमेरिकी लड़ाकू विमान

a p-8a anti-submarine plane and an ep-3e reconnaissance plane entered the taiwan strait  flying near
बीजिंग। चीन और अमेरिका के बीच लगातार बढ़ती तनातनी और कासुलेट्स बंद करने के बाद दोनों देशों में तनाव इस वक्त चरम पर है। इस बीच, अमेरिकी पनडुब्बीरोधी एक लड़ाकू विमान रविवार को पूर्वी चीन के शंघाई से 100 किलोमीटर से भी कम की दूरी पर आ गया था। हांगकांग के साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट (एससीएमपी) ने यह रिपोर्ट दी। इसने दक्षिण चीन सागर पर नजर रखने वाले एक चीन के थिंक टैंक का हवाला दिया है, जो बीजिंग में रहते हैं और सामरिक मामलों के जानकार और साउथ चाइना सी स्ट्रैटजिक सिचुएशन प्रोबिंग इनिशिएटिव (एससीपीआई) से जुड़े हैं।

थिंक टैंक का हवाला देते हुए साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट ने सोमवार की अपनी रिपोर्ट में कहा, एक P-8A पनडुब्बी रोधी लड़ाकू विमान और एक EP-3E टोही विमान ताइवान जलडमरुमध्य में घुस आया और रविवार को झेजियांग और फुजियान के तट के नजदीक उड़ान भर रहे थे। थिंक टैंक ने कहा, एक अमेरिकी युद्धपोत, विध्वंसक यूएसएस राफेल पेराल्टा विमान के नीचे पानी में गश्त कर रहा था।

थिंक टैंक के एक ट्वीट को कोट करते हुए रिपोर्ट में कहा गया कि P-8A लड़ाकू विमान शंघाई से 76.5 किलो मीटर की दूरी पर आ गया, जो हाल के वर्षों में किसी अमेरिकी लड़ाकू विमानों में यह अब तक में सबसे पास आया है। एक अन्य लड़ाकू विमान फुजियान के दक्षिणी तट से 106 किलोमीटर के दायरे में आ गया।

साइथ चाइना सी मॉर्निंग पोस्ट ने कहा, थिंक टैंक ने फिर से फिर रविवार की रात ट्वीट करते हुए कहा कि अमेरिकी नेवी P-8A शंघाई के पास उड़ान भर रहा था जबकि यूएसएस राफेल पेराल्टा, निर्देशित मिसाइल विध्वंसक (Guided Missile destroyer) भी उसी रास्ते पर चल रहा था, “यह एक संयुक्त ऑपरेशन हो सकता है?”

चीन के विदेश मंत्रालय ने इस बारे में इनकार तो नहीं किया लेकिन हिन्दुस्तान टाइम्स के  सवाल का कुछ भी टिप्पण नहीं की।संयोगवश, चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) इस वक्त शक्तिशाली गोला-बारूद के साथ दक्षिणी ग्वांगडोंग प्रांत के लीज़ो प्रायद्वीप में लाइव फायर ड्रिल कर रही है। सप्ताह भर चलने वाले इन अभ्यासों में PLA की वायु सेना, नौसेना और रॉकेट फोर्स के साथ एंटी-शिप और एंटी-एयरक्राफ्ट शामिल होंगे।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch