Tuesday , May 21 2024

‘सुशांत डिप्रेशन में नहीं था’- अंकिता लोखंडे का पहला बयान, खुलकर बोलीं

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को अपने ही घर में फांसी लगाकर जान दे दी, उनकी लाश पंखे से लटकी मिली थी । मुंबई स्थित अपने घर में सुशांत 3 और लोगों के साथ रहते थे । बताया गया कि सुशांत 6 महीने से डिप्रेशन में थे, डॉक्‍टर्स से दवाएं ले रहे थे । सुशांत के डिप्रेशन के कारण रिया भी उनसे परेशान होकर चली गई थीं । अब इस पूरे मामले में सुशांत की एक्स गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे चुप्पी तोड़ी है ।

सुशांत सुसाइड नहीं कर सकता

एक टीवी इंटरव्यू में अंकिता लोखंडे ने कहा – ‘जब ये न्यूज आई कि सुशांत ने सुसाइड कर लिया, इस चीज को स्वीकार करने में बहुत समय लगा । लेकिन मैं सभी को बताना चाहती हूं कि सुशांत उस तरह का इंसान नहीं था जो डिप्रेशन में हो, जिसे किसी चीज का दुख हो और वो सुसाइड कर ले।’ अंकिता ने कहा – ‘उसकी वैसी पर्सनालिटी ही नहीं थी । वो हैप्पी मैन था । शायद मैंने और सुशांत ने इससे बुरी-बुरी सिचुएशन जिंदगी में फेस की होंगी । जितना मैं सुशांत को जानती हूं वो डिप्रेस्ड इंसान नहीं था।’

सुशांत सपने लिखता था

अंकिता लाखंडे ने आगे कहा – ‘मैंने सुशांत के जैसा इंसान नहीं देखा जो अपने सपने लिखता था । वो बहुत लिखता था, और अपने सपने पूरा Sushant ankita 5करता था । जब ये बोला जाता है कि वो डिप्रेशन में था, तो ये उस इंसान के लिए बहुत गलत शब्द है।’ अंकिता ने कहा – ‘वो डिप्रेस्ड नहीं हो सकता । वो किसी चीज को लेकर परेशान हो सकता है । लेकिन डिप्रेशन नहीं । मैं डंके की चोट पर बोल सकती हूं कि सुशांत डिप्रेशन में नहीं था।’

लोग उसे हीरो के तौर पर याद रखें

अंकिता लोखंडे ने लोगों से अपील की, कहा- ‘मैं नहीं चाहती कि लोग उसे एक डिप्रेस्ड इंसान के तौर पर याद रखे । लोग उसे एक हीरो के तौर पर उसे याद रखें. जो एक छोटे शहर से आया । अपना नाम बनाया. अपने दम पर जिंदगी जी. वो इंस्प्रेशन था।’ आपको बता दें सुशांत और अंकिता करीब 6 साल तक रिलेशनशिप में रहे थे, दोनों शादी भी करने वाले थे, लेकिन फिर 2016 में उन दोनों के रास्ते अलग हो गए । सुंशात की मौत से अंकिता लंबे समय तक सदमे में रही, अब वो खुलकर सामने आई हैं और अब उनका सच जो वो जानती हैं, सामने लाई हैं ।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch