Thursday , October 1 2020

5 दिन में 14 सिम: सुशांत सिंह राजपूत केस में ट्विस्ट, बिहार के IPS ऑफिसर को मुंबई में जबरन किया क्वारंटाइन

सुशांत सिंह आत्महत्या की जाँच करने मुंबई पहुँचे पटना के एसपी विनय तिवारी को बीएमसी के अधिकारियों ने 14 दिनों के लिए क्वारंटीन कर दिया है। विनय तिवारी रविवार रात मुंबई पहुँचे थे। वहीं एसआईटी को इस मामले में यह पता चला कि 9 से 13 जून के बीच सुशांत सिंह के मोबाइल में 14 सिम बदले गए थे।

सुशांत सिंह राजपूत केस की जाँच करने गए बिहार पुलिस के अधिकारियों के लिए सुराग इकट्ठा करना काफी मुश्किल हो रहा है। इसकी वजह बताई जा रही है कि मुंबई पुलिस सही तरह से उनका सहयोग नहीं कर रही है।

बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने देर रात ट्वीट कर इसकी जानकारी दी और एसपी विनय तिवारी के हाथ पर लगी क्वारंटीन की मोहर की तस्वीर शेयर की। विनय तिवारी को मुंबई में 15 अगस्त तक क्वारंटीन रहना होगा।

डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने ट्वीट में लिखा, “आज आईपीएस ऑफिसर विनय तिवारी पुलिस टीम को लीड करने के लिए आधिकारिक ड्यूटी पर पटना से मुंबई पहुँचे थे, लेकिन रविवार रात 11 बजे बीएमसी अधिकारियों ने उन्हें जबरन क्वारंटीन कर दिया। उन्हें आईपीएस मेस में रहने की सुविधा नहीं दी गई। वह गोरेगांव के एक गेस्ट हाउस में रुके हुए हैं।”

5 दिन के अंदर सुशांत ने बदले 14 सिम

सुशांत सिंह राजपूत के पिता केके सिंह द्वारा दर्ज किए गए एफआईआर के बाद जाँच के लिए मुंबई पहुँची बिहार पुलिस को कई अहम सबूत मिले हैं। एसआईटी को जाँच के दौरान इस बात की जानकारी हुई है कि आत्महत्या से पहले 9 से 13 जून के बीच सुशांत सिंह के मोबाइल में 14 सिम बदले गए थे।

स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम को इस बात की भी आशंका है कि सुशांत सिंह को अपनी पूर्व मैनेजर दिशा सलियन की आत्महत्या के पीछे का कारण पता चल गया था। जिसकी वजह से उन्होंने कुछ दिनों के भीतर इतने सिम बदले थे।

पुलिस अधिकारियों के अनुसार दिशा ने आत्महत्या करने से पहले सुशांत को फ़ोन कर कई बातों का खुलासा किया था। इसी वजह से सुशांत को कुछ लोग फ़ोन पर धमकी देने लग गए थे। जिसके चलते सुशांत को इतने सिम बदलने पड़े।

वहीं पुलिस का मानना है कि सुशांत ने अपने रूम पार्टनर सिद्धार्थ पिठानी से भी दिशा की मौत को लेकर कुछ चौंकाने वाले खुलासे किए थे। जाँच टीम ने यह भी कहा कि वे सुशांत सिंह राजपूत की पूर्व मैनेजर दिशा सलियन के परिवार से पूछताछ करेंगे, जिन्होंने सुशांत की मौत से कुछ दिन पहले आत्महत्या कर ली थी।

एसआईटी को यह भी शक है कि इस मामले में सोची समझी साजिश के तहत घटना के बाद बांद्रा सोसाइटी समेत सुशांत के फ्लैट में लगे सीसीटीवी कैमरे का फुटेज गायब किया गया। शायद यही वजह है कि पटना एसआईटी को अब तक फुटेज समेत अन्य इलेक्ट्रॉनिक्स सबूत नहीं मिल सके हैं।

सुशांत सिंह राजपूत ने 14 जून को मुंबई के बांद्रा में अपने घर पर फाँसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। इस मामले की जाँच पहले से ही मुंबई पुलिस कर रही है और अब तक कई लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। जिनमें सुशांत के फैमिली, करीबी और बॉलिवुड के कई बड़े नाम शामिल हैं।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति