Tuesday , September 29 2020

सुप्रीम कोर्ट ने नहीं माना कि राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनी थी: मुनव्वर राना

लखनऊ। उर्दू शायर मुनव्वर राना एक बार फिर से अपने विवादित बोल के कारण चर्चा में आए हैं। उन्होंने माँग की है कि अयोध्या के धन्नीपुर गाँव में सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को मस्जिद के लिए जो 5 एकड़ ज़मीन मिली है, वहाँ भगवान राम के पिता राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनवाया जाए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिख कर उक्त माँग की है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा दी गई या जबरदस्ती हासिल की गई ज़मीन पर मस्जिद नहीं बनता।

मुनव्वर राना ने मुस्लिमों की छवि सुधारने के लिए ये आईडिया दिया। उन्होंने इसके पीछे का कारण बताते हुए कहा कि लम्बे समय से मुस्लिमों के बारे में ये प्रचारित किया जा रहा है कि उन्होंने अयोध्या में राम मंदिर तोड़ कर मस्जिद बनाई थी लेकिन सच्चाई यह है कि कोई मुसलमान कभी किसी अवैध कब्जे की जगह पर मस्जिद नहीं बना सकता। उन्होंने कहा कि मुस्लमान हमेशा से अपने वतन, यहाँ के निवासियों व उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं।

मुनव्वर राना ने पीएम मोदी को लिखा पत्र

शायर मुनव्वर राना ने कहा कि इन्हीं बातों का सन्देश देने के लिए मुसलमानों को अयोध्या में राजा दशरथ के नाम पर अस्पताल बनवाना चाहिए। उन्होंने यहाँ तक दावा किया कि वो मस्जिद निर्माण के लिए रायबरेली में सई नदी के किनारे स्थित अपनी साढ़े 5 बीघा जमीन देने के लिए तैयार हैं। ये ज़मीन उनके बेटे तबरेज के नाम पर पंजीकृत है। साथ ही उन्होंने वक़्फ़ की सम्पत्तियों पर अवैध कब्जे हटाने की माँग की, ताकि मुसलमानों की भलाई के लिए उसका इस्तेमाल हो सके। उन्होंने कहा:

मैं चाहता हूँ कि इस जमीन पर बाबरी मस्जिद की एक ऐसी शानदार इमारत का निर्माण किया जाए कि दुनिया के जो भी लोग इधर से गुजरें, वो बाबरी मस्जिद का दीदार कर सकें। एक नए वक्फ बोर्ड का गठन कर सभी वक्फ संपत्तियों को उससे संबद्ध कर दिया जाए। इसमें मेरा कोई निजी स्वार्थ नहीं है क्योंकि मैं बोर्ड में किसी पद की लालसा नहीं रखता हूँ। मैं सिर्फ ज़मीन देने वाला व्यक्ति ही बना रहना चाहता हूँ। सुप्रीम कोर्ट ने राम मंदिर मामले में फैसला तो दिया है, लेकिन ये न्याय नहीं है।

वहीं मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने बताया कि उनके पिता कहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश रहे रंजन गोगोई ने अपने फैसले में लिखा कि कोई साक्ष्य नहीं मिला है कि वहाँ मंदिर तोड़कर मस्ज‍िद बनाई गई। सुमैया ने कहा कि राम मंदिर परिसर में ही छोटी सी मस्जिद बनाने के लिए इजाजत दी जानी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि रायबरेली वाली ज़मीन पर मस्जिद बनाने के लिए कागजात भी तैयार किए जा रहे हैं।

बता दें कि सीएए विरोध प्रदर्शनों के दौरान मुनव्वर राना की बेटी सुमैया ने कहा था कि हमें ध्यान रखना है कि हमें इतना भी न्यूट्रल (तटस्थ) नहीं होना है कि हमारी पहचान ही खत्म हो जाए। उन्होंने कहा था कि पहले हम मुसलमान हैं और उसके बाद कुछ और हैं। सुमैया ने ये भी कहा था कि हमारे अंदर का जो दीन है, जो इमान है, वह जिंदा रहना चाहिए। कहीं ऐसा न हो कि हम अल्लाह को भी मुँह दिखाने लायक न रह जाएँ।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति