Friday , April 19 2024

भारत-चीन तनाव के बीच आज रूस जाएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, SCO की बैठक में लेंगे हिस्सा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) शंघाई सहयोग संगठन (SCO) की एक महत्वपूर्ण बैठक में हिस्सा लेने के लिए आज बुधवार को रूस (Russia) के लिए रवाना होंगे. ये बैठक ऐसे समय हो रही है जब एससीओ के दो प्रमुख सदस्य भारत और चीन के बीच सीमा पर गतिरोध है.

रक्षा मंत्री डिफेंस डील पर भी बात करेंगे
अधिकारियों ने बताया कि 4 सितंबर को होने वाली एससीओ के रक्षा मंत्रियों की बैठक में हिस्सा लेने के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू और कई अन्य शीर्ष सैन्य अधिकारियों के साथ बातचीत करेंगे, जिसका उद्देश्य कई रक्षा खरीद कार्यक्रमों के कार्यांवयन में तेजी लाना है.

उन्होंने बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 5 सितंबर की शाम को मास्को से भारत के लिए रवाना होंगे. बता दें कि चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंघे के एससीओ की बैठक में हिस्सा लेने की उम्मीद है.

SCO की बैठक में चीन के रक्षा मंत्री भी शामिल हो सकते हैं
उन्होंने बताया कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 5 सितंबर की शाम को मास्को से भारत के लिए रवाना होंगे. बता दें कि चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंघे के एससीओ की बैठक में हिस्सा लेने की उम्मीद है.

चीन ने फिर की घुसपैठ की कोशिश
गौरतलब है कि एससीओ रक्षा मंत्रियों की बैठक ऐसे समय हो रही है, जब चीन की सेना द्वारा पूर्वी लद्दाख में ‘एकतरफा’ तरीके से पैंगोंग झील के दक्षिणी तट पर यथास्थिति बदलने के असफल प्रयास के मद्देनजर भारत और चीन के बीच ताजा तनाव उत्पन्न हो गया है.

दोनों पक्षों ने 5 मई को शुरू हुए सीमा गतिरोध को समाप्त करने के लिए कई दौर की कूटनीतिक एवं सैन्य वार्ता की है. हालांकि चीन द्वारा पैंगोंग झील क्षेत्र में यथास्थिति में बदलाव करने के ताजा प्रयासों से तनाव और बढ़ गया है.

भारत-चीन सीमा विवाद पर रूस की राय
हालांकि रूस ने पहले ही कहा है कि भारत और चीन को सीमा विवाद वार्ता के जरिए हल करना चाहिए और दोनों देशों के बीच एक ‘रचनात्मक’ संबंध क्षेत्र की स्थिरता के लिए महत्वपूर्ण है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch