Thursday , October 1 2020

सुशांत सिंह राजपूत का सपना कुछ इस तरह पूरा कर रही हैं अंकिता लोखंडे, वीडियो हुआ वायरल

उम्‍मीदों से भरे सुशांत सिंह राजपूत डायरी लिखा करते थे, अपने सपनों की लिस्ट बनाते थे । कुछ को पूरा कर पाए तो कुछ अधूरे ही रह गए । अब सुशांत के सपनों को उनका परिवार, उनके दोस्‍त पूरा करने की कोशिश कर रहे हैं । उनकी एक्‍स रह चुकीं अंकिता लोखंडे भी सुशांत के सपनों को पूरा करने की कोशिश में लगी हुई हैं । दरअसल सुशांत का एक सपना था कि वह 1000 पेड़ लगाना चाहते थे।

सुशांत की बहन ने किया मैसेज

सुशांत सिंह राजपूत की पेड़ लगाने की इस इच्छा के बारे में उनकी बहन श्‍वेता सिंह कीर्ति ने बताया । उन्‍होने सोशनल मीडिया पर फैन्स से पौधे लगाने  की अपील की है ताकि सुशांत का यह सपना पूरा हो सके। सुशांत का यही सपना पूरा करने के लिए अंकिता लोखंडे हाल ही में पौधे खरीदने पहुंच गईं । अंकिता का एक वीडियो सोशल मीडिया में आया है जिसमें वह अपनी मां के साथ पौधे खरीदते नजर आ रही हैं।

अंकिता का मैसेज

अंकिता लोखंडे यहां कहती नजर आई है कि –  ‘सबको मैसेज दो, पौधे लगाओ। सुशांत के 50 सपनों में से एक सपना यह था कि वह 1000 पौधे लगाएंगे और इस सपने को पूरा करने के लिए मैंने अपने घर से शुरुआत की है और मैं आशाSushant ankita 5 करती हूं कि सभी पौधे लगाएंगे।’  पिछले दिनों अंकिता ने जी टीवी पर ‘पवित्र रिश्ता’ सीरियल शुरू होने की जानकारी शेयर की थी । ये सीरियल उनके लिए बहुत ही खास है, क्‍योंकि इस शो में दोनों ने साथ काम किया था और इसी शो से दोनों को नाम और शोहरत मिली । अंकिता ने शो का प्रोमो शेयर करते हुए लिखा – फिर एक बार।’ ‘पवित्र रिश्ता’ हर रोज दोपहर 3 बजे से शाम 6 बजे तक जी टीवी पर दिखाया जाएगा।’

मां के लिए इमोशनल पोस्ट

अंकिता लोखंडे सुशांत की मौत के बाद सोशल मीडिया से एकदम गायब हो गई थीं । लेकिन अब वो सक्रिय हो गई है । अंकिता ने मां के साथ ankita sushantअपनी प्यारी फोटोज शेयर की हैं। फोटोज को शेयर करते हुए उन्‍होने लिखा है – ‘मेरे सबसे पहली और मेरी हमेशा के लिए फेवरेट टीचर। आपको हैप्पी टीचर्स डे मां। मैं अपने बच्चों के लिए आपकी तरह बनना चाहती हूं। लव यू मां।’ अंकिता ने ये पोस्‍ट टीचर्स डे के मौके पर अपनी मां के लिए किया था ।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति