Saturday , September 19 2020

क्या सुशांत सिंह को दिया गया था जहर? कब तक आएगी विसरा टेस्ट की रिपोर्ट, जानें क्या कर रही है AIIMS की टीम

सुशांत सिंह राजपूत की मौत की गुत्थी सुलझाने के लिए एम्स के डॉक्टरों की टीम दोबारा विसरा जांच कर रही है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत को जहर दिया गया था या नहीं, इसका पता लगाने के लिए एम्स की फॉरेंसिक टीम विसरा टेस्ट कर रही है, जिसमें विसरा सैंपल की एनालिसिस रिपोर्ट 17 या 20 सितंबर को तैयार होने की संभावना है। सुशांत सिंह राजपूत की विसरा रिपोर्ट का एक बार विश्लेषण मुंबई में किया गया था और दूसरी बार विश्लेषण के लिए एम्स को भेजा गया है।

सुशांत की विसरा सैंपल का विश्लेषण करने वाले डॉक्टरों में से एक ने कहा ‘हमें अभी कुछ सामग्री महाराष्ट्र से मिली है और इसकी रिपोर्ट देने में कुछ समय लगेगा। वहां से जो सामग्री आई हैं, उनमें से कुछ पत्र मराठी में हैं और उनका अनुवाद करने की आवश्यकता है। 17 सितंबर को एक मेडिकल बोर्ड के बुलाए जाने की संभावना है और उसके बाद रिपोर्ट आ जानी चाहिए। इसमें शामिल सभी एजेंसियों के साथ एक बैठक होने की भी संभावना है, ताकि 20 सितंबर तक एक निर्णायक राय आए।’

सुशांत के विसरा जांच में सैंपल का परीक्षण करने के लिए एम्फ़ैटेमिन, कैनबिस, ओपियोड, कोकीन, हेरोइन आदि ड्रग का भी टेस्ट होगा। इन ड्रग के सैंपल टेस्ट से यह पता चल जाएगा कि क्या सुशांत सिंह राजपूत ने वास्तव में इनमें से किसी भी ड्रग्स का सेवन किया है या नहीं।

दरअसल, किसी भी इंसान की मौत हो जाने के बाद अगर पुलिस शव का पोस्टमार्टम कराती है, तो इस दौरान मरने वाले के शरीर से विसरल पार्ट यानि आंत, दिल, किडनी, लीवर आदि अंगों का सैंपल लिया जाता है, उसे ही विसरा कहा जाता है। अगर किसी शख्स की मौत संदिग्ध हालात में होती है, उसकी मौत के पीछे पुलिस या परिवार को किसी भी तरह के ड्रग या जहर का शक होता है, तो ऐसे मामलों में मौत की वजह जानने के लिए विसरा की जांच की जाती है।

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई के बांद्रा में स्थित अपने घर में मृत पाए गए थे। सुशांत सिंह के अंतिम पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला था कि उनके शरीर पर किसी भी तरह के चोट निशान नहीं मिले थे। हालांकि, बाद में सुशांत के परिवार की ओर से एफआईआर कराए जाने के बाद से मामले ने तूल पकड़ लिया और अब इसकी तीन एजेंसियां जांच कर रही हैं।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति