Thursday , October 22 2020

चौतरफा घिरीं जया बच्‍चन, ‘थाली’ वाले बयान पर अब शेखर सुमन ने किया पलटवार, रणवीर शौरी भी बरसे

बॉलीवुड और ड्रग विवाद अब और गहरा गया है । मामला रवि किशन द्वारा संसद में उठाया गया, जिसके बाद सांसद जया बच्‍चन ने राज्‍यसभा में इसका विरोध करते हुए तीखा बयान दिया । इस बयान के कई समर्थक हैं तो उससे कहीं ज्‍यादा इसे लेकर अपना विरोध जता रहे हैं । सुशांत की मौत से शुरू हुई नेपोटिजम की बहस ने अब ड्रग को लेकर बड़े खुलासे करने शुरू कर दिए हैं । अब एक्‍टर शेखर सुमन और रणवीर शौरी ने इसे लेकर बयान दिया है ।

शेखर सुमन ने ये कहा

न्‍यूज चैनल से बातचीत के दौरान शेखर सुमन ने कहा कि अब बॉलीवुड की थाली गंदी हो गई है और उसे साफ करने की जरूरत है । शेखर सुमन शुरुआत से ही इस केस में सुशांत की ओर से लड़ रहे हैं, न्‍याय की मांग कर रहे हैं । जया बच्‍चन ने ड्रग्‍स मामले में बॉलीवुड को निशाना बनाने वालों पर निशाना साधा था । उन्‍होंने कहा था कुछ लोग हैं जो जिस थाली में खा रहे हैं, उसी में छेद कर रहे हैं । है

रणवीर शौरी ने भी दिया करारा जवाब

वहीं अभिनेता रणवीर शौरी ने भी राज्यसभा सदस्य एवं अभिनेत्री जया बच्चन के ‘‘थाली में छेद करने’’ वाले बयान का जवाब देते हुए कहा कि फिल्मी जगत में बाहर से आए उनके जैसे लोगों को किसी ने थाली में सजा कर काम नहीं दिया और उन्होंने इसके बिना ही सफलता हासिल की है । शौरी ने ट्वीट किया, ‘‘ वे अपने बच्चों के लिए थालियां सजाते हैं, जबकि हम जैसे लोगों को टुकड़े फेंके जाते हैं । हम अपना खाने का डिब्बा खुद पैक करके काम पर जाते हैं । हमें किसी ने कुछ नहीं दिया है । हमारे पास जो है, वह ये लोग हमसे नहीं ले सकते । यदि उनका बस चलता तो वे यह भी अपने बच्चों को दे देते।’’

जया बच्चन का बयान

मंगलवार को राज्यसभा में शून्यकाल के दौरान जया बच्‍चन ने कहा था कि – ‘‘जिन लोगों ने इस उद्योग में नाम कमाया, उन्होंने इसे गटर कहा है । मैं jaya raviइससे पूरी तरह असहमत हूं… मुझे वाकई बड़ा खराब लगा और शर्मिंदगी महसूस हुई, जब कल लोकसभा में हमारे एक सदस्य, जो इसी उद्योग से आते हैं, ने यह बात कही । मैं नाम नहीं ले रही। यह शर्मनाक है।’’ जया बच्चन ने कहा- ‘‘ जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं । गलत बात है।’’

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति