Monday , October 26 2020

UP STF की हिरासत में बाहुबली अतीक अहमद का छोटा बेटा अली अहमद, उमर के बारे में पड़ताल

मेरठ/लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर उत्तर प्रदेश में इन दिनों बाहुबलियों पर पुलिस तथा उत्तर प्रदेश एसटीएफ का शिकंजा कसा है। प्रयागराज में पूर्व सांसद अतीक अहमद तो मऊ, गाजीपुर व लखनऊ में दबंग विधायक मुख्तार अंसारी से सभी अवैध निर्माण को जमींदोज किया जा रहा है।

एसटीएफ मेरठ टीम ने शनिवार को अतीक अहमद के छोटे बेटे अली को नौचंदी से पकड़ लिया है। उससे उमर के बारे में पूछताछ की जा रही है। प्रयागराज में अब से करीब चार वर्ष पहले मामा के निकाह में करीब 12 राउंड फायरिंग करने वाले अली अहमद को आज एसएटीएफ ने हिरासत में लिया है।अली अहमद तथा उमर अहमद प्रयागराज के फूलपुर से समाजवादी पार्टी से सांसद रहे अतीक अहमद के पुत्र हैं।

अली अपने फूफा के घर मिलने आया था। एसटीएफ को सूचना मिली थी कि अली का भाई दो लाख की इनाम उमर आया है। छापामारी के दौरान उमर का कोई पता नहीं चल पाया है। अली को हिरासत में लेकर पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया। दो साल पहले प्रॉपर्टी डीलर मोहित जायसवाल को अगवा कर जेल में बुलाकर पिटाई के मामले में उमर वांछित चल रहा है।

लखनऊ के प्रापर्टी डीलर मोहित जायसवाल को 2018 में गोमतीनगर उनके ऑफिस से अगवा कर देवरिया जिला जेल ले जाया गया था। जहां बाहुबली अतीक अहमद ने अपने बेटे उमर, गुर्गे गुरफान, फारूख, गुलाम व इरफान के साथ जेल की बैरक प्रापर्टी डीलर की पिटाई करते हुए उससे 45 करोड़ की जमीन अपने नाम पर लिखवा ली। उसकी एसयूवी गाड़ी भी अतीक अहमद के गुर्गो ने लूट ली।

बाहुबली के चंगुल से छूट कर किसी तरह लखनऊ पहुंचे मोहित ने आला अधिकारियों को वारदात की जानकारी दी। तभी पुलिस ने अतीक अहमद के गुर्गे इरफान और गुलाम को गिरफ्तार कर लिया था। अतीक अहमद का स्थानांतरण गुजरात जेल में कर दिया था। सीबीआइ ने अतीक के बेटे उमर पर दो लाख का इनाम घोषित कर दिया। तब से उमर के पीछे यूपी पुलिस के अलावा एसटीएफ और एसटीएफ भी लगी हुई है। शनिवार को मेरठ एसटीएफ को उमर के नौचंदी के भवानी नगर में अपने फूफा के घर होने की सूचना मिली। एसटीएफ की टीम ने छापा रहा, जहां पर एसटीएफ की टीम को उमर नहीं मिल पाया। उसका भाई अली मिला था। अली को एसटीएफ ने अपने पुलिस लाइन स्थित ऑफिस में लाकर पूछताछ की। उसके बाद परिवार के सुपुर्द कर दिया।

डिप्टी एसपी एसटीएफ, ब्रिजेश सिंह ने बताया कि उमर की तलाश में भवानी नगर कालोनी में छापा मारा गया था। उमर तो नहीं मिला उसका छोटा भाई अली मिला। अली से उमर के बारे में जानकारी जुटाई गई । अली को परिवार के सुपुर्द कर दिया। साथ ही उमर की तलाश में एसटीएफ की टीम काम कर रही है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति