Monday , October 26 2020

कर्नाटक: HC के आदेश के बाद हटाया गया सरकारी भूमि पर स्थापित अवैध क्रिश्चियन क्रॉस और जीसस की विशाल मूर्ती

कर्नाटक के चिक्काबल्लापुर में सुसाई पलिया हिल पर मौजूद एक अवैध क्रिश्चियन क्रॉस और यीशु मसीह की एक मूर्ति को बुधवार (सितम्बर 23, 2020) को जिला प्रशासन ने हटा दिया है। जनहित याचिका (पीआईएल) के जवाब में कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेश के बाद यह कार्रवाई की गई।

सरकारी भूमि के अतिक्रमण के लिए बड़े आकार के क्रॉस और स्टैचू को सरकारी स्वामित्व वाली चरागाह भूमि, जिसे गोमला भी कहा जाता है, पर अवैध रूप से स्थापित किया गया था। अवैध कब्जे को हटाने की इस कार्रवाई को सहायक आयुक्त रघुनंदन, तहसीलदार तुलसी ने पुलिस अधीक्षक (चिक्काबल्लापुर) मिथुन कुमार की निगरानी में किया गया।

प्रशासनिक कार्रवाई की पुष्टि करते हुए, रघुनंदन ने बताया कि कर्नाटक उच्च न्यायालय के आदेशों पर कार्रवाई की गई थी, क्योंकि यह पाया गया था कि अधिकारियों की पूर्व स्वीकृति के बिना, सरकारी भूमि पर मूर्ती और क्रॉस का निर्माण किया गया था।

इसाई प्रदर्शनकारियों ने किया कार्रवाई के खिलाफ विरोध

इस दौरान इलाके में कानून व्यवस्था को नियंत्रित करने के लिए सैकड़ों पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया था। कथित तौर पर, सैकड़ों इसाई प्रदर्शनकारियों ने जिला प्रशासन के संचालन के खिलाफ मौके पर प्रदर्शन किया। इसाई प्रदर्शनकारी, प्रशासन और कर्नाटक सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते रहे। पुलिस ने मामले को अपने हाथ में ले लिया और उन सभी स्थानीय इसाईयों को पीछे किया, जिन्होंने प्रशासन को न्यायालय के आदेशों को लागू करने से रोकने की कोशिश की।

केरल में भी चर्च ने किया था कब्जा करने का प्रयास

पिछले साल एक चर्च पर केरल की कम्युनिस्ट सरकार की मदद से, केरल में ‘पूनकवनम’ के नाम से जाने जाने वाले सबरीमाला मंदिर से जुड़े ‘पवित्र वनों’ का अतिक्रमण करने का आरोप लगाया गया था। मलयालम अख़बार ‘जन्मभूमि’ की एक रिपोर्ट ने बताया था कि इडुक्की ज़िले के सबरीमाला जंगलों के एक हिस्से पाँचालिमेडु के पास वनभूमि का भारी अतिक्रमण किया गया था। पूरे क्षेत्र को पर्यावरण (संरक्षण) अधिनियम के तहत पारिस्थितिक रूप से संवेदनशील के रूप में नामित किया गया है।

चिंताजनक विषय यह था कि चर्च ने ऐसे बोर्ड लगाए हुए थे जिनमें वन क्षेत्र को एक इसाई तीर्थस्थल होने का दावा किया गया था। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि इस कारनामे का उद्देश्य सबरीमाला मंदिर था, जो पिछले सत्तर सालों से धर्मांतरण वाले गिरोह के रडार पर रहा है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति