Tuesday , March 9 2021

1277 करोड़ रुपए की कंपनी: इंडियन कैसे करते हैं पखाना (पॉटी), देते हैं इसकी ट्रेनिंग और प्रोडक्ट

इंडिया के लोग पखाना कैसे करते हैं? आप बोलेंगे बैठ कर! सामान्य सा सवाल, सामान्य सा जवाब। लेकिन जूडी एडवर्ड को जब कॉन्स्टिपेशन हुआ तो हम भारतीयों के पखाने करने के इसी स्टाइल को अपना कर उन्होंने इससे निजात पाई।

जूडी के लिए उनका कब्ज बहुत कष्टकारी था। उन्होंने दुनिया को इससे निजात पाने के इंडियन पखाना शैली के बारे में बताने की ठान ली। लेकिन तब उन्हें नहीं पता था कि पखाना कैसे करें, यह बताना भी अपने आप में एक बिजनस बन जाएगा। बिजनस वो भी 1277 करोड़ रुपए (175 मिलियन अमेरिकी डॉलर) का।

जूडी एडवर्ड, उनके पति बिल और बेटे बॉबी ने 2010 में एक ऐसा स्टूल बनाया था, जिसे पैर के नीचे रख कर वेस्टर्न टॉयलेट में इंडियन पखाने जैसा आनंद लिया जा सकता है। यह प्रोडक्ट इतना फेमस हुआ कि पहले ही साल में 10 लाख अमेरिकी डॉलर का बिजनस कर लिया। चीन जैसे मैनुफेक्चरिंग हब से भी पहले ही साल में इसके 2000 स्टूल के ऑर्डर आए।

2020 आते-आते स्क्वॉटी पॉटी (Squatty Potty) के 50 लाख स्टूल हर साल बिकने लगे। Squatty Potty – जी हाँ, कंपनी का नाम यही है।

यह तरह-तरह के वीडियो और फोटो बना कर वेस्टर्न टॉयलेट में पखाना करने वाले लोगों को इंडियन पखाना स्टाइल के फायदे के बारे में भी बताते हैं। कब्ज के जिस कष्ट से कभी जूडी गुजर चुकी हैं, वो नहीं चाहती हैं कि उससे कोई और गुजरे… और साथ में बिजनस तो चल ही रहा है।

स्टार्स जो करते हैं Squatty Potty का यूज

ऐशले ग्रैहम, जिमी किमेल, सैली फिल्ड, हॉवर्ड स्टर्न और ब्रायन क्रैन्स्टन जैसे बड़े A-ग्रेड सेलिब्रिटी से लेकर कई अन्य हॉलिवुड सेलिब्रिटी भी इसका यूज करते हैं। ऐशले ग्रैहम तो इसके यूज से इतना खुश हो गई थीं कि उन्होंने एक साथ 5 Squatty Potty खरीद कर अपने दोस्तों को गिफ्ट किया था।

इंडिया में भी Squatty Potty का बिजनस!

जिन भारतीयों के पखाना करने के स्टाइल को कॉपी कर यह बिजनस खड़ा किया गया है, उनको भी उन्हीं के देश में Squatty Potty अपने स्टूल बेच रहा है। बिजनस यही है। जहाँ से पैसे आए, आते रहे।

वेस्टर्न टॉयलेट के नीचे रखने लायक Squatty Potty का स्टूल इंडिया में 3200 रुपए में बेचा जा रहा है। हास्यास्पद यह है कि इसमें भी वो लिमिटेड पीरियड ऑफर के साथ इसे 1760 रुपए में बेच रहे हैं।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति