Monday , May 17 2021

न्यूज़क्लिक का ‘अर्बन नक्सल’ गौतम नवलखा, न्यूजलॉन्ड्री और दूसरे वामपंथी पोर्टल्स से गठजोड़: ₹30 करोड़ की मनी लॉन्ड्रिंग

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार (फरवरी 9, 2021) को न्यूज़क्लिक के संस्थापक और प्रधान संपादक प्रबीर पुरकायस्थ के घर पर छापा मारा। बताया जा रहा है कि डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म के ऑफिस पर भी छापा मारा गया है।

सूत्रों के अनुसार, प्रवर्तन निदेशालय ने मंगलवार को मनी लांड्रिंग निरोधक कानून के प्रावधानों के तहत PPK NEWSCLICK स्टूडियो प्राइवेट लिमिटेड से जुड़े आय की जाँच के लिए दिल्ली और एनसीआर क्षेत्र में 10 से अधिक जगहों पर तलाशी ली। बता दें कि कंपनी पर 3 साल में 30 करोड़ रुपए से अधिक धन प्राप्त करने का आरोप है।

सूत्रों का कहना है कि अवैध तरीके से कमाई गई इस धनराशि का कंपनी की मुख्य व्यावसायिक गतिविधि से कोई लेना-देना नहीं है। कहा गया कि यह धन पत्रकारों या कार्यकर्ताओं को वेतन के नाम पर बाँटा गया था। लाभार्थियों में तीस्ता सीतलवाड़ से जुड़े लोग भी शामिल हैं। अन्य लाभार्थियों में गौतम नवलखा, प्रंजॉय गुहा ठाकुरता आदि शामिल हैं।

सूत्रों का कहना है कि लाभार्थी प्रथम दृष्टया सर्विस के प्रावधान से जुड़े हुए प्रतीत नहीं हो रहे हैं। सूत्रों ने वाइकिंग सिस्टम इंटरनेशनल इंक नामक एक अमेरिका बेस्ड कंपनी का भी उल्लेख किया है। इनकी वेबसाइट के अनुसार, NewsClick का स्वामित्व PPK NEWSCLICK Studio Private Limited के पास है। प्रबीर पुरकायस्थ कंपनी के निदेशक हैं। वहीं प्रांजल पांडे अतिरिक्त निदेशक हैं। उनके खिलाफ भी छापे मारे गए थे।

कौन हैं प्रबीर पुरकायस्थ?

न्यूज़क्लिक के संपादक होने के अलावा, प्रबीर पुरकायस्थ एक इंजीनियर और ‘साइंस एक्टिविस्ट’ हैं। वह ‘फ्री सॉफ्टवेयर मूवमेंट ऑफ इंडिया’ (FSMI) के अध्यक्ष भी हैं। 2017 में, ‘विभिन्न राज्यों और क्षेत्रों में काम करने वाले सोलह मुक्त सॉफ्टवेयर मूवमेंट (FSM) एक साथ आए और FSM का एक राष्ट्रीय गठबंधन बनाने का फैसला किया’। इसी के परिणामस्वरुप एफएसएमआई का गठन हुआ।

एफएसएमआई के लक्ष्यों में ‘फॉरवर्ड फ्री सॉफ्टवेयर और इसके वैचारिक निहितार्थ हमारे राष्ट्र के सभी कोनों को विकसित डोमेन से वंचितों तक ले जाना’ और ‘मुफ्त सॉफ्टवेयर के उपयोग में कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं के बीच जागरूकता पैदा करना’ शामिल है।

Prabir Purkayastha is the president of FSMI
Prabir Purkayastha is the president of FSMI

प्रबीर पुरकायस्थ कथित तौर पर दिल्ली विज्ञान मंच (डीएसएफ) के संस्थापक सदस्य भी हैं। इसकी वेबसाइट के अनुसार, “दिल्ली विज्ञान मंच (डीएसएफ) का गठन वर्ष 1978 में सोसाइटी अधिनियम के तहत पंजीकृत एक जनहित संगठन के रूप में किया गया था। मंच का प्राथमिक उद्देश्य विज्ञान और विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीतियों को लोकप्रिय बनाने सहित विज्ञान और समाज इंटरफेस पर काम करना था।”

Prabir Purkayastha is a founding member of the Delhi Science Forum
Prabir Purkayastha is a founding member of the Delhi Science Forum

सॉफ्टवेयर फ्रीडम लॉ सेंटर (SFLC) के अनुसार, “उन्होंने कई प्रमुख पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में बड़े पैमाने पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीति के मुद्दों को लिखा और प्रकाशित किया है, जिनमें ‘आर्थिक और राजनीतिक साप्ताहिक’, ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ और दिल्ली के विज्ञान फ़ोरम प्रकाशन शामिल हैं।”

उनके कॉलम भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) की आधिकारिक वेबसाइट में भी हैं। उन कॉलम में, वह ‘Covid-19 Pandemic and the Pathologies of Late Capitalism’ और अन्य मामलों के बारे में बात करते हैं।


His columns have appeared on the official website of the CPI(M)

प्रबीर पुरकायस्थ ने उन संगठनों द्वारा आयोजित कार्यक्रमों को भी संबोधित किया है, जो ओमिडयार नेटवर्क सहित विदेशों से धन प्राप्त करते हैं। वह कई कंपनियों में निदेशक भी हैं। वह स्टार्टअप्स सॉफ्टवेयर प्राइवेट लिमिटेड (एसएसपीएल), सग्रीक प्रोसेस एनालिस्ट प्राइवेट लिमिटेड, पीपी कनेक्ट मीडिया प्राइवेट लिमिटेड सहित कई अन्य में निदेशक हैं।

गौतम नवलखा के साथ संबंध

सबसे दिलचस्प बात यह है कि एसएसपीएल में, प्रबीर पुरकायस्थ के साथ गौतम नवलखा भी एक निर्देशक थे। गौतम नवलखा भीमा कोरेगाँव मामले में गिरफ्तार किए गए ‘अर्बन नक्सलियों’ में से एक है और कथित तौर पर पाकिस्तान के आईएसआई के साथ उनके संबंध हैं। उनकी गिरफ्तारी के बाद यह बताया गया कि गौतम नवलखा हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों के साथ भी संपर्क में थे।


Gautam Navlakha and Prabir Purkayastha were Directors at Startacus Software Private Limited (Source: ZaubaCorp)

गौतम नवलखा पीपी न्यूज़क्लिक स्टूडियो के “स्वतंत्र पार्टनर” थे, जहाँ उन्हें 17 अप्रैल, 2017 को पद पर नियुक्त किया गया था। यहाँ यह ध्यान रखना आवश्यक है कि न्यूज़क्लिक के वर्तमान मालिक PPK NEWSCLICK स्टूडियो प्राइवेट लिमिटेड भीमा कोरेगाँव हिंसा के 10 दिन बाद 11 जनवरी, 2018 को संयुक्त हुआ।


Source: ZaubaCorp

यह सब घटनाएँ एक बहुत ही संदिग्ध शृंखला की ओर इशारा करता है। यह भी उल्लेखनीय है कि प्रबीर पुरकायस्थ और गौतम नवलखा को सितंबर 1993 में एसएसपी के निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया था। गौतम नवलखा को अप्रैल 2017 में PP NEWSCLICK STUDIO LLP के स्वतंत्र भागीदार के रूप में नियुक्त किया गया था।

DIGIPUB न्यूज़ इंडिया फाउंडेशन

डिजिटल युग के लिए एक स्वस्थ और मजबूत समाचार पारिस्थितिकी तंत्र के निर्माण को सुनिश्चित करने में मदद करने के इरादे से डिजिटल मीडिया संगठनों द्वारा DIGIPUB न्यूज़ इंडिया फाउंडेशन (Digipub) का गठन किया गया था। इसका उद्देश्य एक मंच का निर्माण करना है, जो डिजिटल समाचार मीडिया संगठनों का प्रतिनिधित्व करता है।

संगठन के प्रमुख संस्थापक सदस्यों में Alt News, Newsclick, Newslaundry, Scroll, The News Minute, The Quint और The Wire आदि शामिल हैं। नामों में आकाश बनर्जी, फेय डिसूजा, प्रंजॉय गुहा ठाकुरता और नेहा दीक्षित शामिल हैं।

ZaubaCorp के अनुसार, प्रबीर पुरकायस्थ Digipub के निर्देशकों में से एक थे। Digipub के अन्य निदेशकों में द न्यूज मिनट के धनाय राजेंद्रन, न्यूज़लॉन्ड्री के अभिनंदन सेखरी और द क्विंट के रितु कपूर शामिल हैं।


The Directors of Digipub

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति