Saturday , June 19 2021

‘सरगम की साढ़ेसाती’ एक्ट्रेस अंजलि तत्रारी बोलीं- यह शो मेरे लिए घर वापसी जैसा

छोटे पर्दे पर दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए जल्द नया टीवी सीरियल सरगम की साढ़े साती शुरू होने वाला है। यह मशहूर टीवी सीरियल सास बिना ससुराल का न्यू एडिशन है, जिसका टाइटल पहले सास बिना ससुराल 2 तय किया गया था लेकिन बाद में इसे बदलकर सरगम की साढ़ेसाती कर दिया गया। सरगम की साढ़े साती में सरगम का रोल एक्ट्रेस अंजलि तत्रारी निभा रही हैं। जो टीवी सीरियल मेरे डैड की दुल्हनिया में अहम रोल में नजर आई थीं। हाल ही में अंजलि ने इंटरव्यू के दौरान शो से जुड़ी कई बातें शेयर की।
सरगम की साढ़ेसाती में मुख्य भूमिका निभाने के लिए आप कितनी उत्साहित हैं? आपका किरदार आपके द्वारा पहले निभाई गई भूमिका से अलग कैसे है?
यह मेरे लिए घर वापसी जैसा है। मैंने ‘मेरे डैड की दुल्हनिया’ से अपने करियर की शुरुआत की थी और अब मैं इस शो में सरगम का किरदार निभाऊंगा। थोड़े समय में मुझे दो अलग-अलग किरदार निभाने को मिलेंगे, जो बाकी कलाकारों को शायद ही मिलते हैं। सरगम एक बहुत ही चुनौतीपूर्ण भूमिका है क्योंकि न केवल वह साढ़े 7 पुरुषों को संभाल रही है, बल्कि इसलिए कि कॉमेडी किसी भी सामान्य अभिनय की तुलना में अधिक कठिन है।
यह सोनी टीवी पर पहला सिचुएशन कॉमेडी है और मैं इसका हिस्सा बनने के लिए बेहद उत्साहित हूं। पिछले शो मेरे डैड की दुल्हनिया’ मैं मेरा चरित्र एक आम जिंदगी में पाए जाने वाले इंसान जैसा था और इस शो में मेरे लिए बिल्कुल अलग किरदार है। सरगम की साढ़ेसाती में, कॉमेडी, कॉमिक टाइमिंग और हावभाव सब कुछ बिल्कुल अलग है। अगर हम इस बारे में बात करते हैं कि सरगम अन्य पात्रों से कैसे अलग है, तो मैं कह सकता हूं कि वह बहुत जिम्मेदार है क्योंकि वह परिवार में 7 और डेढ़ पुरुषों को संभालने वाली एकमात्र महिला है। और यह उसकी ज़िम्मेदारी है कि वह पूरे परिवार को बांध कर एक साथ रखे।
कलाकारों के साथ शूटिंग का आपका अनुभव अब तक कैसा रहा है?
सरगम की साढ़ेसाती की कास्ट में बहुत प्रतिभाशाली लोगों का मिश्रण है। दर्शन जरीवाला सर और सनत व्यास जी जैसे दिग्गज हमारे साथ शो में काम कर रहे हैं। इसकी शूटिंग शुरू किए हुए अभी हमें ज्यादा वक्त नहीं हुआ है लेकिन इस छोटे से वक्त में भी हम सभी एक-दूसरे के काफी करीब आ गए हैं।

पूरी कास्ट, अब एक परिवार की तरह महसूस करती है। अब तक कलाकारों के साथ शूटिंग का अनुभव मनोरंजक और मजेदार रहा है। हम सभी ने एक-दूसरे के साथ अच्छा व्यवहार किया है। जब आप घर से ज्यादा समय सेट पर काम करने में बिताते हैं तो यकीनन ही आप अपने सहयोगियों के बीच दोस्तों और परिवार काे पा लेते हैं। मुझे लगता है कि काम करने के लिए खुश और सकारात्मक माहौल होना बहुत जरूरी है, जो कि “सरगम की साढ़ेसाती’ के सेट पर हमेशा होता है।

सेट पर माहौल हमेशा हल्का और मज़ेदार होता है। हमारे स्क्रिप्ट लेखक ने हर चरित्र के संवादों के साथ ऐसा अद्भुत काम किया है कि हम हर संवाद के बाद जोर से हंस रहे होते हैं। हर समय सेट पर भयानक ऊर्जा होती है और हमेशा एक-दूसरे से सीखने का अवसर मिलता है। इसके अलावा, मैं कास्ट की अकेली महिला हूं इसलिए मैं बहुत खुश हूं और मेरे सभी काे-स्टार्स मुझे बहुत चिढ़ाते हैं।
जैसा कि प्रोमो में देखा गया है, साढ़े सात सरगम के जीवन में एक बहुत महत्वपूर्ण संख्या है। क्या आप साझा कर सकती हैं क्यों?
हां, यह सही है कि सरगम के जीवन में साढ़े सात बहुत महत्वपूर्ण संख्या है। सरगम के जन्म से लेकर अब तक साढ़े सात लगभग हर विशेष अवसर पर उसके जीवन का हिस्सा रहा है। वह 7:30 बजे ही पैदा हुई थी और उसकी शादी का महूर्त भी 7:30 बजे का ही है। इसके अलावा, एक वाक्यांश के रूप में साढ़े साती को इतने अच्छे समय के लिए नहीं जाना जाता है, इसलिए कहानी यह है कि हमारे पास हर रोज़ कुछ साढ़े सात क्षण हैं लेकिन फिर भी दिन के अंत तक हम सभी एक साथ हैं।
सरगम की साढ़ेसाती वर्तमान शोज से कैसे अलग होगा?
यह शो निश्चित रूप से अलग है। न केवल इसलिए कि इसे जिस तरह से तैयार किया गया है बल्कि शो की अवधारणा भी थोडा हटके है। यहां आपके सास-बहू ड्रामा जैसा कुछ नहीं है। यह एक सिचुएशन कॉमेडी है और हर एपिसोड में दर्शकों को हंसाने और आनंद लेने के लिए नई कहानी और नए ट्विस्ट होंगे। शो में एक सुंदर संदेश भी है कि कैसे एक संयुक्त परिवार घर में साढ़े साती क्षण होने के बावजूद भी साथ रहता है।
सरगम और आप में कौन से लक्षण मिलते-जुलते हैं?
सरगम एक बहुत ही प्रगतिशील महिला हैं। वह उत्साही और आसान व्यक्तित्व की है। वह बहुत देखभाल करती है और यह सुनिश्चित करने की कोशिश करती है कि घर के हर व्यक्ति की ज़रूरतें ठीक से पूरी हों। सरगम अवस्थी परिवार का समस्या-समाधान है। वह हमेशा घर में सब कुछ संतुलित करने के लिए कड़ी मेहनत करती है लेकिन हर समय लड़खड़ाती है। वह घर के सभी पुरुषों की विशिष्ट समस्याओं से ग्रस्त है। उसकी जिम्मेदारी पूरे परिवार को बांधने और उन्हें एक साथ बनाए रखने की है। वह खाना पकाने की कला में महारत हासिल करने के लिए बहुत कोशिश करती है लेकिन अंत में जला हुआ खान ही परोसती है।
वह तर्कशील, बुद्धिमान और निस्वार्थ है। मैं कहूंगी कि सरगम और मुझमें साझा करने वाले कई लक्षण हैं। अंजलि और सरगम के बीच सबसे आम लक्षण होगा, वे दोनों बहुत ही उत्साही और खुशमिजाज व्यक्ति हैं। दोनों छोटी-छोटी चीजों में ही संतोष पाते हैं। दोनों आशावादी हैं और हमेशा हर चीज का हल खोजने की कोशिश करते हैं। इसलिए, मुझे उसकी भूमिका निभाते हुए सरगम के साथ एक विशेष जुड़ाव महसूस होता है।
शो में आपको साढ़े सात आदमियों से भरे घर में एक महिला की भूमिका निभाते हुए देखा जाएगा। आपने इस भूमिका के लिए कैसे तैयारी की है?
मैं एक घर की अकेली महिला का किरदार निभाऊंगी, जिसमें साढ़े 7 पुरुष होंगे। सरगम को एक प्यार भरा चरित्र बनाने की तैयारी के लिए मैंने दृढ़ता से काम किया है। मैंने कई चीजों की लिस्ट बनाई है जैसे सनत व्यास सर द्वारा निभाए गए दादाजी के साथ मेरा रिश्ता कैसा होगा? यह उससे अलग होगा जो मैं अपने ससुर छेदीलाल अवस्थी का किरदार निभाने वाले दर्शन जरीवाला सर के साथ साझा करूंगी।

कुणाल सलूजा द्वारा निभाई गई अपारशक्ति की भूमिका के साथ मेरी टोन घर के हर दूसरे आदमी से अलग होगी क्योंकि वह मेरा पति है और मैं उसके साथ कुछ हद तक कम्फर्टेबल हूं। और जब कॉमेडी की बात आती है, तो मैं अपनी कॉमिक टाइमिंग के संबंध में प्रत्येक दिन बेहतर हो रही हूं। अलग-अलग परिवार के सदस्यों के साथ अलग-अलग स्थिति में अलग हावभाव और वाॅइस मॉड्यूलेशन की आवश्यकता होती है।

यह शो दिल्ली में स्थापित किया गया है, क्या आप राजधानी के साथ कोई जुड़ाव साझा करते हैं?
शो की स्थापना गाजियाबाद, दिल्ली में की गई है। और मुझे लगता है कि मैं अपने पिछले शो के रूप में बहुत भाग्यशाली हूं क्योंकि “मेरे डैड दुल्हन’ को भी गाजियाबाद, दिल्ली में ही स्थापित किया गया था। और इसके अलावा मेरे लिए दिल्ली के बारे में एकमात्र विशेष बात यह है कि मेरा सबसे अच्छा दोस्त दिल्ली में रहता है जिसे मैं 23 साल से जानती हूं। और इसके अलावा, मैं बहुत बड़ी फूडी हूं तो मैं हमेशा दिल्ली जाने के लिए तरसती रहती हूं।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति