Monday , May 17 2021

विदेशी राजनयिकों के दौरे के बीच श्रीनगर में डल झील के पास आतंकी हमला, फायरिंग में एक जख्मी

श्रीनगर। विदेशी राजनयिकों के दौरे के बीच श्रीनगर में आतंकी हमला हुआ है. श्रीनगर के सोनवर इलाके में फायरिंग हुई है. हमला जहां पर हुआ है, वहां से एक किलोमीटर दूर विदेशी राजनयिक ठहरे हैं. बताया जा रहा है कि हमले में डल झील के पास कृष्णा ढाबे का एक कर्मचारी जख्मी हुआ है.

मुस्लिम जांबाज फोर्स J&K ने हमले की जिम्मेदारी ली है. वहीं, सुरक्षाबलों ने मोर्चा संभाल लिया है, इलाके में सर्च ऑपरेशन जारी है. इधर, पुलवामा के अवंतीपोरा इलाके में सुरक्षाबलों ने IED (इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस) बरामद किया है.

बता दें कि जम्मू कश्मीर में एक बार फिर यूरोपीय संघ का एक प्रतिनिधि समूह टूर पहुंचा है. यूरोप और अफ्रीका के करीब 20 राजनयिकों की टीम बुधवार को यहां पहुंची. अपने दो दिवसीय दौरे के दौरान यूरोपीय संघ का यह दल 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर के विकास कार्यों के बारे में जानकारी हासिल कर रहा है.

बताया जा रहा है कि यूरोपीय संघ का डेलीगेशन जमीनी स्तर पर लोकतंत्र की स्थिति का जायजा ले रहा और डीडीसी के नव-निर्वाचित सदस्यों, कुछ प्रमुख नागरिकों और प्रशासनिक सचिवों के साथ बैठक भी करेगा. यूरोपीय संघ के इस दौरे पर सियासत शुरू हो गई है. विपक्ष का आरोप है कि सरकार कश्मीर मसले का अंतरराष्ट्रीयकरण कर रही है.

जम्मू-कश्मीर पहुंचे राजनयिकों के डेलीगेशन में ब्राजील, क्यूबा, एस्टोनिया, फिनलैंड, ताजिकिस्तान, फ्रांस, आयरलैंड, नीदरलैंड, पुर्तगाल, यूरोपीय संघ, बांग्लादेश, मलावी, एरिट्रिया, कोटे डी आइवर, घाना, सेजल, स्वेदान, इटली, मलेशिया, बोलीविया, बेल्जियम और किर्गिस्तान के दूत शामिल हैं.

गुरुवार को डेलीगेशन सुबह 8:30 बजे बादामी बाग के लिए रवाना होगा. फिर 9 से 10 बजे तक जीओसी-15 कोर के साथ बैठक होगी. इस बैठक के बाद डेलीगेशन जम्मू के लिए रवाना हो जाएगा. डेलीगेशन दोपहर 12.30 बजे उपराज्यपाल मनोज सिन्हा से मुलाकात करेगा. फिर दोपहर 2.30 से 3.30 बजे तक जम्मू-कश्मीर के आला अधिकारियों के साथ बैठक होगी. फिर 3.30 से 4.30 बजे तक डीडीसी के नवनिर्वाचित प्रतिनिधियों और सिविल सोसायटी के साथ बैठक होगी. इस बैठक के बाद डेलीगेशन वापस दिल्ली लौट आएगा.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति