Sunday , April 18 2021

2 ने हाथ पकड़े, तीसरे ने गुदाद्वार में पंप से हवा भरी… 16 साल के लड़के का स्थानीय डॉक्टर भी इलाज नहीं कर पाए

पीलीभीत/लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में 9वीं कक्षा में पढ़ने वाले 16 साल के बच्चे के साथ की गई एक घटिया हरकत ने उसकी जान ले ली। जानकारी के मुताबिक, राइस मिल में काम करने वाले कुछ युवकों ने उसके गुदाद्वार में हाई पावर एयर कम्प्रेसर से इतनी हवा भरी कि नाबालिग के भीतर के अंग खराब हो गए और घटना के मात्र दो दिन के बाद उसकी मौत हो गई।

पीड़ित ने बरेली के अस्पताल में आखिरी साँस ली। तीनों आरोपितों की उम्र 22 से 26 साल के बीच की है। उत्तर प्रदेश पुलिस ने बच्चे की मौत के बाद इनके खिलाफ़ पीलीभीत में रविवार को मुकदमा दर्ज किया।

पड़ताल की जा रही है कि आखिर ऐसे बर्बर कृत्य के पीछे कारण क्या था… क्या सिर्फ़ अपने ‘आनंद’ के लिए युवकों ने ये सब किया या फिर उनकी बच्चे से कोई निजी दुश्मनी थी। आरोपितों की पहचान अमित, सूरज और कमलेश के तौर पर हुई है।

पीलीभीत पुरनपुर कोतवाली इलाके के निवासी व बच्चे के पिता ने बताया कि उनका बेटा उनकी जगह चावल की मिल में काम करता था। 4 मार्च को जब वह दोपहर का खाना खाने जा रहा था, तभी तीनों मजदूरों- अमित, सूरज और कमलेश ने उनके बेटे को पकड़ लिया। अमित और सूरज ने उसके हाथ पकड़े और कमलेश ने उसके गुदाद्वार में चावल मिल में इस्तेमाल होने वाले एयर कंप्रेसर से हवा भरी।

घटना के बाद लड़के की हालत ऐसी हो गई कि स्थानीय डॉक्टर उसका इलाज ही नहीं कर पाए। उन्होंने पीलीभीत के जिला अस्पताल में उसे शिफ्ट किया। वहाँ डॉक्टरों ने उसकी आंत फटने की बात कही, जिसके बाद आगे के इलाज के लिए बरेली के डॉक्टरों के पास रेफर किया। लेकिन शनिवार तक लड़का बच न सका। उसने वहीं अस्पताल में दम तोड़ दिया।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, एसएचओ ने बताया कि तीनों आरोपितों के ख़िलाफ़ धारा 304 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है। इनमें से दो को हिरासत में लेकर पूछताछ भी चल रही है।

एबीपी न्यूज की दो दिन पुरानी रिपोर्ट के अनुसार पहले खबर थी कि पीड़ित पक्ष और आरोपित पक्ष एक ही गाँव के है। इसलिए सुलह की बात चल रही है और वह आरोपितों के विरुद्ध कार्रवाई को हामी नहीं भर रहे। हालाँकि, शनिवार को पता चला कि बच्चे के अंतिम संस्कार के बाद इस संबंध में शिकायत हुई व आरोपित हिरासत में ले लिए गए।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति