Sunday , April 18 2021

मनसुख हिरेन के सिर और गर्दन पर चोटें, मौत से पहले हमले की आशंका: महाराष्ट्र ATS ने किए कई खुलासे

मुंबई। महाराष्ट्र आतंकवाद निरोधक दस्ते (ATS) के एक अधिकारी ने गुरुवार (मार्च 18, 2021) को एक चौंकाने वाला खुलासा करते हुए कहा कि उन्हें व्यवसायी मनसुख हिरेन के सिर और गर्दन पर चोट के निशान मिले हैं, जिनका शव 5 मार्च को ठाणे जिले के रेटिबंदर नाले के पास मिला था।

48 वर्षीय ठाणे स्थित ऑटो स्पेयर पार्ट्स डीलर मनसुख हिरेन की मौत की जाँच कर रहे ATS के एक सूत्र ने कहा है कि हो सकता है कि उनकी मौत से पहले उन पर हमला किया गया हो। हिरेन का लिंक 25 फरवरी को अरबपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर खड़ी विस्फोटक से लदी कार से जुड़ा था। हालाँकि, इस घटना के 10 दिन बाद उन्हें रहस्यमय तरीके से नाले के पास मृत पाया गया था।

एटीएस अधिकारी ने कहा कि ऐसा लगता है कि किसी ने मनसुख हिरेन के साथ मारपीट और भारी वस्तु से हमला किया होगा और आशंका जताई जा रही है कि इस हमले की वजह से वह बेहोश हो गए होंगे। पुलिस अधिकारी ने हिन्दुस्तान टाइम्स से कहा कि हमलावर ने उनके मुँह में चार-पाँच रूमाल ठूँस दिए और उनके पूरे चेहरे को दुपट्टे से ढक दिया।

अधिकारी ने कहा, “हत्यारे ने हिरेन को बेहोश करने के लिए क्लोरोफॉर्म का इस्तेमाल किया होगा या हो सकता है कि उसने कुछ अन्य साधनों का इस्तेमाल किया हो क्योंकि हिरेन का चेहरा कई तरह के रूमाल और मास्क से ढका हुआ था। बाद में (बेहोश होने के बाद) उन्हें पानी में फेंक दिया गया था।”

फोरेंसिक टीम का कहना है कि हिरेन की डूबने से मौत हो गई, ATS ने जताया संदेह

हालाँकि, जेजे अस्पताल में एक फोरेंसिक टीम द्वारा प्रस्तुत परीक्षण के परिणामों ने हिरेन के शरीर में डायटम की उपस्थिति की पुष्टि की है। भले ही जेजे अस्पताल की रिपोर्ट का दावा है कि हिरेन जीवित थे जब उसे नाले में फेंक दिया गया था, एटीएस जाँचकर्ताओं ने इस थ्योरी के बारे में संदेह जताया है। इस बीच, हिरेन के शरीर पर चोटों के बारे में पता चलने के बाद, जाँच अधिकारी ने अब हरियाणा फोरेंसिक प्रयोगशाला से सेकेंड ओपिनियन माँगी है।

मुकेश अंबानी के घर विस्फोटकों से भरी स्कार्पियो कार मामले की जाँच में एनआईए ने एक और खुलासा किया है। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर एनआईए और एटीएस की जाँच से खुलासा हुआ है कि 17 फरवरी को कोर्ट में जीपीओ फोर्ट के पास हिरेन और वाजे की मर्सिडीज में 10 मिनट की बातचीत हुई थी। कहा जा रहा है कि मुलुंड-ऐरोली रोड पर स्कॉर्पियो में खराबी आने के चलते हिरेन ने एक ओला कैब में दक्षिण मुंबई की यात्रा की थी।

सचिन वाजे-मनसुख हिरेन की मुलाकाता का CCTV फुटेज

NIA और ATS को 17 फरवरी का एक सीसीटीवी फुटेज हाथ लगा है। वीडियो में दिख रहा है कि हिरेन और वाजे ने फोर्ट में जीपीओ के पास मर्सिडीज में 10 मिनट तक बातचीत की। मनसुख ओला कैब में वाजे से मिलने आया था।

ओला ड्राइवर ने बताया- पाँच कॉल आई थी

जिस ओला कैब से मनसुख मिलने के लिए पहुँचे थे। उस दिन सीएसएमटी पहुँचने के दौरान उनके पास पाँच कॉल आई थी। कॉल करने वाले ने मनसुख को पहले पुलिस मुख्यालय के सामने बुलाया और आखिरी कॉल में उसे सीएमएमटी के सिग्नल पर आने के लिए कहा।

बता दें कि एंटीलिया बम कांड मामले में निलंबित मुंबई पुलिस एपीआई सचिन वाजे का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें वह ड्राइव करते हुए मनसुख हिरेन को क्राइम ब्रांच ले जाते हुए दिखाई दे रहे हैं। वीडियो 26 फरवरी का बताया जा रहा है। वीडियो में क्राइम ब्रांच के बाहर का फुटेज है, जिसमें वाजे और मनसुख हिरेन को उनके लैंड क्रूजर प्राडो में यूनिट में आते हुए देखा जा सकता है। यह वाहन एनआईए द्वारा जब्त कर लिया गया है।

इससे पहले महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया कि मनसुख हिरेन की हत्या की गई है। उन्होंने कहा कि हिरेन को मारने के बाद शव को खाड़ी में फेंका गया। लो टाइड की वजह से शव बहा नहीं, अगर शव हाई टाइड में चला जाता तो मिलता ही नहीं। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हिरेन के फेफड़ों में पानी नहीं है। अगर हिरेन की मौत पानी में डूबने से हुई होती तो फेफड़ों में पानी दिखता। इससे साफ है कि हिरेन की हत्या हुई है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मनसुख हिरेन का गला घोटने की जानकारी सामने आई है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति