Friday , May 7 2021

कोविड मरीजों के लिए हेमकुंट फाउंडेशन के ऑक्सीजन ट्रक को राजस्थान पुलिस ने रोका, सोशल मीडिया पर आक्रोश के बाद छोड़ा

देश में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच, कई एनजीओ मुफ्त मेडिकल ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति के साथ जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं। ऐसा ही एक गैर-सरकारी संगठन हेमकुंट फाउंडेशन है, जिसने ₹ 10,000 के रिफंडेबल सिक्योरिटी पर अब तक 1000 से अधिक सिलेंडरों की आपूर्ति की है।

तरल ऑक्सीजन की माँग और आपूर्ति के बीच की गहरी खाई को पाटने के अपने सर्वश्रेष्ठ प्रयासों के बावजूद, फाउंडेशन ने आरोप लगाया है कि उन्हें राजस्थान पुलिस द्वारा परेशान किया जा रहा है। कल एक ट्वीट में कहा उन्होंने कहा, “भिवाड़ी पुलिस स्टेशन पर हमारे ड्राइवर और ट्रक को हिरासत में ले लिया गया है। इस बीच गंभीर मरीज हमारे गुड़गाँव के मुहीम के तहत इंतजार कर रहे हैं।”

एक अन्य ट्वीट में, एनजीओ ने बताया कि जबकि कोरोनोवायरस के गंभीर मरीज ऑक्सीजन सिलेंडरों की प्रतीक्षा कर रहे थे और क्योंकि उनके रिसोर्स ख़त्म हो रहे थे। पुलिस ने सभी ट्रकों को रोक दिया है। हम इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते, पृष्ठभूमि में एक व्यक्ति को इसके लिए दुख व्यक्त करते हुए भी देखा जा सकता है।

सोशल मीडिया पर लोगों की नाराजगी के बाद, राजस्थान पुलिस ने हस्तक्षेप किया और भिवाड़ी पुलिस शाखा को मामले में तत्काल कार्रवाई का निर्देश दिया। जिसके बाद हेमकुंट फाउंडेशन ने जवाब दिया, “अभी भी हम प्रतीक्षा कर रहे हैं।”

राजस्थान पुलिस हेल्प डेस्क ने पुलिस महानिरीक्षक को इस मामले के बारे में अपडेट देने का निर्देश दिया। जवाब में, IGP जयपुर के ट्विटर हैंडल ने सूचित किया, “भिवाड़ी पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार, एक पिकअप वाहन घाटाल गाँव के पास खड़ी थी। कार में कुल 5 खाली ऑक्सीजन सिलेंडर मिले। वाहन के चालक से संतोषजनक जवाब नहीं देने पर उसे पुलिस स्टेशन लाया गया और रात में 2:56 बजे पूछताछ के बाद रिहा कर दिया गया। ”

ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी के मामलों का हवाला देते हुए, भिवाड़ी पुलिस ने हेमकुंट फाउंडेशन के खिलाफ अपनी कार्रवाई को सही ठहराया। इस तथ्य को आसानी से नजरअंदाज करते हुए कि राजस्थान पुलिस के कारण गंभीर कोरोनावायरस रोगियों को मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति में देरी हुई, पुलिस के उच्चाधिकारियों ने कहा, “ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी के मामलों को ध्यान में रखते हुए, ड्राइवर को पुलिस स्टेशन लाया गया था क्योंकि उसने संतोषजनक जवाब नहीं दिया था। हालाँकि, पूछताछ के बाद उन्हें 2:56 बजे जाने की अनुमति दे दी गई थी और वाहन को भी ले जाने की अनुमति थी।

आईपीएस अरुण बोथरा द्वारा भी इस बात की पुष्टि की गई थी। उन्होंने ट्वीट किया, “वाहनों को छोड़ दिया गया है। आप इसकी पुष्टि कर सकते हैं।”

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति