Sunday , July 25 2021

केजरीवाल ने लिखा: महेश भाई AAP में स्वागत है, कभी अपहरण और वसूली में हुई थी गुजरात के इस कारोबारी की गिरफ्तारी

सूरत/अहमदाबाद। साल 2022 में होने वाले गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले आम आदमी पार्टी ने रविवार (जून 27, 2021) को सूरत के व्यापारी महेश सवानी का अपनी पार्टी में स्वागत किया। सवानी के पार्टी से जुड़ते ही उनसे जुड़े मामलों की दोबारा चर्चा होने लगी। AAP को घेरते हुए बताया जाने लगा कि साल 2020 में सवानी को अपहरण और जबरन वसूली के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने उन्हें पार्टी में शामिल करवाया। दिल्ली के मुख्यमंत्री और आप सुप्रीमो केजरीवाल ने ट्वीट कर पार्टी में उनका स्वागत किया। गौरतलब है कि कई शैक्षणिक संस्थान के मालिक और कथित तौर पर सामाजिक कार्यकर्ता महेश सवानी पर 65 साल के गौतम पटेल की किडनैपिंग और उनसे 19 करोड़ रुपए माँगने का आरोप है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक पटेल और उनके बिजनेस पार्टनर ने सवानी से अपने इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट के लिए उधारी ली थी। इसके बाद पटेल को उन्हें 3 करोड़ देने थे। लेकिन किसी कारणवश भुगतान न होने पर उन्होंने एक जमीन में 60% हिस्सेदारी देने की बात की। हालाँकि, सवानी इस ऑफर से अपनी रकम नहीं वसूल पाए। जिसके चलते उन्होंने पटेल के अपहरण की योजना बनाई। जब पटेल अपने बेटे की शादी के लिए भारत आए तो उन्हें किडनैप कर लिया गया। पटेल की किडनैपिंग उनके घर पर पहले से लगे सीसीटीवी फुटेज में कैद हो गई। इसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ा और सवानी गिरफ्तार भी हुए।

बता दें कि सवानी को अनाथ लड़कियों की सामूहिक शादी और अपने कर्मचारियों को कार और घर देने के लिए जाना जाता है।

नेतृत्व से खुश होकर थामा हाथ

आम आदमी पार्टी से जुड़ते हुए सवानी ने दावा किया कि वह पार्टी के अच्छे नेतृत्व से खुश होकर पार्टी से जुड़ रहे हैं। सवानी ने कहा, “51 साल की समाज सेवा के बाद, मैंने अपनी सेवाओं को बड़े स्तर पर जारी रखने के लिए राजनीति में शामिल होने का फैसला किया। शिक्षा हर चीज का आधार है। दिल्ली में सरकारी स्कूल सबसे अच्छे हैं। हाल ही में दिल्ली के दौरे के दौरान मुझे पता चला कि दिल्ली सरकार 700 से 800 स्कूल चलाती है। मैंने ऐसे सात स्कूलों का दौरा किया जो किसी भी निजी स्कूल को टक्कर दे सकते हैं। मैंने वहाँ चिकित्सा सुविधाएँ भी देखी हैं। आप सरकार की पहल बेहतरीन है, इसलिए मैंने पार्टी में शामिल होने का फैसला किया है।”

सवानी के पार्टी से जुड़ने पर सिसोदिया ने कहा, “AAP गुजरात में एक खाली प्लॉट की तरह है, जहाँ राज्य की नई और आधुनिक राजनीति का घर बनाया जा सकता है। इसकी नींव रखने के लिए हम महेश जी का आम आदमी पार्टी में स्वागत करते हैं।” सिसोदिया ने कॉन्फ्रेंस करते हुए दावा किया, “गुजरात में आम आदमी पार्टी दिन-रात चौगुनी की गति से आगे बढ़ रही है।”

उन्होंने महेश सवानी का स्वागत करते हुए कहा कि अब दिल्ली का ही नहीं, गुजरात का भी काम बोलने लगा है, पार्षदों का काम बोलने लगा है। इन सब से प्रभावित होकर, महेश ने AAP परिवार में शामिल होने का फैसला किया ।

ब्राह्मणों को गाली देते आप नेता की वीडियो वायरल

उल्लेखनीय है कि इससे पहले हमने आपको बताया था कि कैसे गुजरात के AAP नेता गोपाल इटालिया के कुछ पुराने वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए थे। इसमें वह ब्राह्मणों और हिंदू परंपराओं को अपमानित करते दिखे थे। वायरल वीडियो में AAP नेता ने कहा,

“मैं जो कहता हूँ अगर वो आपको सही नहीं लगे तो मुझे ब्लॉक कर दो क्योंकि मुझे आपकी जरूरत नहीं। लोग सत्यनारायण कथा और भागवत कथा जैसी अवैज्ञानिक और फालतू की चीजों पर पैसा और समय बर्बाद कर देते हैं। इसके बाद भी लोगों को यह नहीं पता चलता कि उन्हें ऐसा करके क्या हासिल हुआ। वे दूसरों का समय भी बर्बाद कर देते हैं। अगर हम 5 पैसे भी ऐसी फालतू चीजों पर खर्च कर देते हैं तो हमें मनुष्य की तरह जीने का अधिकार भी नहीं है।”

हिन्दू मान्यताओं का अपमान करते हुए इटालिया ने कहा था कि जो इन सत्संग और कथा में शामिल होते हैं वो हिजड़ों के जैसे तालियाँ बजाते हैं। उन्होंने कहा, “मुझे ऐसे लोगों पर शर्म आती है। जो मैं कहता हूँ वह आपको अगर अच्छा न लगे तो मुझे ब्लॉक कर दीजिए। लेकिन हमें उनकी जरूरत नहीं है जो संस्कृति और प्रथाओं के नाम पर हिजड़ों की तरह ताली बजाते हैं। कुछ साधु स्टेज से फालतू बातें करेंगे और हम हिंजड़ों की तरह ताली बजाएँगे।”

बता दें कि गुजरात के पार्षद चुनावों में आम आदमी पार्टी ने 120 में से 27 सीट जीती थी। इसके बाद पार्टी ने मान लिया कि वह राज्य में भाजपा को हरा सकते हैं और इसीलिए उन्होंने आगे राज्य चुनाव लड़ने का फैसला किया। अब आगामी वर्षों में अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में पार्टी यूपी, उत्तराखंड, गोवा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के राज्य चुनाव लड़ेगी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति