Sunday , July 25 2021

महाराष्ट्र में भीड़ की गुंडई: तुकाराम पवार की मॉब लिंचिंग, अपराधी जमील कुरैशी की मौत के बाद पुलिस पर हमला

महाराष्ट्र में ग्रामीणों की भीड़ ने एक प्राइवेट बिजली कंपनी के गार्ड की पीट-पीट कर हत्या कर दी। बिजली बिल न जमा करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा था, जिससे आक्रोशित भीड़ ने मॉब लिंचिंग की इस घटना को वारदात को अंजाम दिया। वहीं रविवार (जुलाई 4, 2021) को ही पुलिस ने जानकारी दी कि अलग घटना में एक भीड़ के हमले में महाराष्ट्र के तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए। ये दोनों ही घटना ठाणे के भिवंडी में हुई।

भिवंडी पावरलूम टाउन में ही इस घटना ने एक बार फिर से महाराष्ट्र में भीड़ अपराध को चर्चा में ला दिया है। शनिवार को बिजली कंपनी के कुछ अधिकारी तुकाराम पवार नामक सिक्योरिटी गार्ड के साथ कनेरी गाँव के कटाई क्षेत्र में गए हुए थे। निजामपुरा थाने की पुलिस ने बताया कि ये लोग उस इलाके में बिजली बिल जमा न करने वालों के खिलाफ कार्रवाई के लिए गए थे। जो कई महीने के डिफॉलटर्स थे, उनका बिजली कनेक्शन काटा जाना था।

तभी अचानक से 12-15 ग्रामीणों की भीड़ वहाँ आ धमकी और बिजली कंपनी के कार्य में बाधा डालने लगी। ग्रामीणों ने बिजली कंपनी के कर्मचारियों की पिटाई की। उन्होंने बिजली कनेक्शन काटने से भी रोक दिया। इस हमले में गार्ड तुकाराम पवार बुरी तरह घायल हो गए। उन्हें आनन-फानन में भिवंडी के IGM अस्पताल ले जाया गया, जहाँ डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। रास्ते में ही उनकी जान जा चुकी थी।

निजामपुरा पुलिस ने शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है और ‘एक्सीडेंटल डेथ’ का मामला दर्ज किया है। पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। मृतक के बेटे का कहना है कि पॉवर कंपनी की लापरवाही से ही उसके पिता की मौत हुई है। कंपनी के पब्लिक रिलेशन्स (PR) अधिकारी चेतन बिजलानी का कहना है कि डिफॉलटर्स के खिलाफ ये सामान्य अभियान था, इसीलिए पुलिस की सुरक्षा की माँग नहीं की गई।

उन्होंने बताया कि जब विशेष अभियान चलाया जाता है तब पुलिस की सुरक्षा की माँग की जाती है। वहीं दूरी घटना भिवंडी के ही कसाई वड़ा में शुक्रवार को हुई। गुजरात पुलिस और भिवंडी क्राइम ब्रांच की संयुक्त टीम सादे कपड़ों में जमील कुरैशी नाम के एक अपराधी को पकड़ने गई हुई थी। 38 वर्षीय जमील के खिलाफ वलसाड पुलिस थाने में कई आपराधिक मामले दर्ज हैं। पुलिस को देख कर गिरफ़्तारी से बचने के लिए कुरैशी चौथी मंजिल पर स्थित फ्लैट की खिड़की से ही कूद गया।

भिंवडी जोन के डिप्टी कमिश्नर ऑफ पुलिस (DCP) योगेश चव्हाण ने बताया कि खिड़की से कूदने के कारण अपराधी की मौत हो गई। इसके बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस पर उसे धक्का देकर मार डालने का आरोप लगाया और हमला कर दिया। वायरल वीडियो में महिलाओं-पुरुषों की भीड़ को पुलिसकर्मियों को पीटते और पत्थरबाजी करते देखा जा सकता है। ये एक संवेदनशील क्षेत्र है, इसीलिए पुलिस ने मामला दर्ज कर के गश्ती बढ़ा दी है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति