Monday , November 29 2021

सिद्धू के नाम ऑडियो, कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता की आत्महत्या: कहा – ‘पार्टी को 30 साल दिए, शादी भी नहीं… कोई फायदा नहीं’

पंजाब के लुधियाना जिले के दाखा विधानसभा के जंगपुर गाँव में गुरुवार (जुलाई 29, 2021) को कॉन्ग्रेस महासचिव हैप्पी बाजवा/दिलजीत सिंह ने जहर खाकर सुसाइड कर ली। सुसाइड से पहले उन्होंने कॉन्ग्रेस नेता नवजोत सिंह सिंद्धू को अपना 10 मिनट का ऑडियो संदेश भेजा।

बाजवा ने इसमें बताया कि कैसे वह पिछले 30 साल से कॉन्ग्रेस पार्टी के साथ जुड़े हैं लेकिन उन्हें और उनके घरवालों को कभी इसका लाभ नहीं मिला जबकि पार्टी के लिए काम करने पर उनके ख़िलाफ़ केस होते रहे। ऑडियो के मुताबिक किसी प्लॉट संबंधी एक मामले में उन्हें फँसाने की तैयारी चल रही थी, इसी से आहत होकर उन्होंने आत्महत्या का फैसला किया।

बाजवा ने अपनी ऑडियो में सिद्धू से अनुरोध किया है कि उनके जाने के बाद सिद्धू उनके परिवार को संभाल लें। अपनी मौत के लिए उन्होंने तीन लोगों को जिम्मेदार कहा है। इनमें से दो को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है, जिनकी पहचान प्रीतम सिंह और महिंदर सिंह के तौर पर हुई है। वहीं एक आरोपित बलजिंदर सिंह फरार है।

बाजवा के परिजनों से मिले सिद्धू, CM ने जताया दुख

सुसाइड से पहले जारी की गई बाजवा की ऑडियो से प्रदेश में हड़कंप है। कॉन्ग्रेस नेताओं का कहना है कि बाजवा ने पार्टी को दोषी नहीं कहा जबकि ऑडियो कुछ और ही बयान कर रही है। वहीं सिद्धू भी घटना की सूचना पाते ही कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता के घर पहुँचे।

पीड़ित परिवार के साथ शोक व्यक्त करते हुए सिद्धू ने कहा कि वह हमेशा इस परिवार के साथ चट्टान की तरह खड़े रहेंगे। पंजाब प्रदेश कॉन्ग्रेस कमेटी की तरफ से पीड़ित परिवार को दस लाख रुपए दिए जाएँगे। इस मामले में जितने भी आरोपित हैं, किसी को नहीं छोड़ा जाएगा।

मुख्‍यमंत्री कैप्‍टेन अमरिंदर सिंह ने भी ट्वीट कर हैप्‍पी के आत्‍महत्‍या करने पर दुख जताया। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने लिखा, “लुधियाना जिले से हमारे पार्टी कार्यकर्ता की आत्महत्या की दुखद खबर। हैप्पी बाजवा ने सुसाइड कर ली। पंजाब पुलिस के डीजीपी को तत्काल जाँच के निर्देश दिए हैं और आरोपितों को गिरफ्तार करने को कहा है। जो कोई भी दोषी होगा उसे छोड़ा नहीं जाएगा।”

ऑडियो में बाजवा ने क्या कहा

बता दें कि हैप्पी बाजवा कॉन्ग्रेस के स्पोर्टस एंड कल्चरल सेल देहाती के जिला चेयरमैन थे। उन्होंने आत्महत्या करने से पहले पंजाब कॉन्ग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह के लिए जो ऑडियो रिकॉर्ड की, उसमें उन्होंने कहा कि वह तीस साल तक कॉन्ग्रेस पार्टी से जुड़े रहे, लेकिन अभी तक अपने परिवार को दाल आटा योजना का लाभ तक नहीं दिला सके। इसके अलावा कॉन्ग्रेस के लिए काम करते हुए उन पर कई मामले दर्ज हुए, 4 साल के शासन में उन्हें कोई फायदा नहीं हुआ है।

बाजवा ने बताया कि वह हरियाणा, हिमाचल, गुजरात सहित कई प्रदेशों में कॉन्ग्रेस के लिए प्रचार कर चुके हैं। पार्टी प्रचार के लिए घर से 6 महीने तक बाहर रहना पड़ता था। इसलिए उन्होंने शादी भी नहीं की। इस दौरान उनके खिलाफ विरोधी दलों ने कई झूठे मामले दर्ज करवाए और अब एक प्लाट, जो उन्होंने कुछ समय पहले लिया था, उसको लेकर चल रहे विवाद में उन पर फिर से मामला दर्ज करने की तैयारी है। इसलिए इन सबसे तंग आकर वह आत्महत्या कर रहे हैं। वह बताते हैं कि इन सबके लिए गाँव निवासी प्रीतम सिंह, उसका भतीजा बलजिंदर सिंह और पंच महिंदर सिंह जिम्मेदार है।

उल्लेखनीय है कि बाजवा की आत्महत्या के बाद दाखा प्रभारी इंस्पेक्टर जगजीत सिंह ने बताया कि उन्होंने शव को बरामद कर लिया है, उसे अस्पताल में पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। एक ऑडियो की जानकारी उनके पास भी पहुँची है, फिलहाल मामले की जाँच की जा रही है। आरोपितों के खिलाफ उचित कार्रवाई होगी।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति