Tuesday , October 19 2021

करोड़पति सिपाही की लोकायुक्त से शिकायत:अखाड़ा परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का गनर है आरोपी सिपाही, सोशल एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने आय से अधिक संपत्ति मामले में दिए साक्ष्य

प्रयागराज/लखनऊ। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की सुरक्षा में लगे सिपाही की यूपी के लोकायुक्त से आय से अधिक संपत्ति मामले की शिकायत की गई है। यह शिकायत सोशल एक्टिविस्ट डाॅ. नूतन ठाकुर ने की है। उन्होंने करोड़पति सिपाही के खिलाफ लोकायुक्त को साक्ष्य भी प्रस्तुत किए हैं साथ ही कार्रवाई की मांग भी की हैै। डीजीपी से दो बार की जा चुकी है शिकायत, नहीं हुई कोई कार्रवाई

सोशल एक्टिविस्ट डॉ. नूतन ठाकुर ने वर्तमान में कौशांबी जनपद से संबद्ध और पूर्व में पुलिस लाइन्स, प्रयागराज में तैनात रहे सिपाही अजय कुमार सिंह के खिलाफ लोकायुक्त से शिकायत की है। इस शिकायत में बताया है कि उन्हें दी जानकारी के अनुसार सिपाही अजय सिंह के पास करोड़ों रुपये की संपत्ति है। फार्च्यूनर 4.2 वाहन संख्या यूपी 70 सीई 3440, एक आल्टो कार व एक नई बुलेट मोटर साइकिल है।

अजय को महंगी गाडि़यों का शौक है।
अजय को महंगी गाडि़यों का शौक है।

पत्नी के नाम प्रयागराज में हैं दो फ्लैट

अजय कुमार सिंह की पत्नी के नाम प्रयागराज में 5 अक्टूबर 2019 को 39,22,000 तथा 10 अप्रैल 2014 को 22,00,000 मूल्य के दो फ्लैट खरीदे गए हैं। इसके अलावा उनके द्वारा गांव में करोडों रुपये का मकान, प्रयागराज के नारीबारी में करोड़ों रुपये की जमीन खरीदी गई है। उसने फ्लैट में भी पच्चीसों लाख रुपये का काम करवाया है।

अपनी पत्नी के साथ बर्थडे मनाता सिपाही अजय।
अपनी पत्नी के साथ बर्थडे मनाता सिपाही अजय।

धनाड्यों जैसा है सिपाही का रहन सहन

आवेदन में कहा गया है कि उसका लिविंग स्टैंडर्ड किसी बड़े धनाढ्य से कम नहीं है। एक सिपाही का जितना वेतन होता है उसमें यह सब कर पाना संभव नहीं है। ऐसे में उसकी संपत्ति की जांच की जानी चाहिए कि उसने इतना अकूत धन कहां से इकट्ठा किया है। इसके पीछे कहीं कोई भ्रष्टाचार तो नहीं है। इस संबंध में डीजीपी से लेकर सभी अफसरों से शिकायत की गई पर अब तक कोई कार्रवाई सिपाही के खिलाफ नहीं की गई।

कौशांबी पोस्टिंग बताकर प्रयागराज पुलिस ने पल्ला झाड़ा

प्रयागराज पुलिस ने उसकी कौशांबी में पोस्टिंग बता कर पल्ला झाड़ लिया है। यह कहा गया कि अजय सिंह वर्तमान में कौशाम्बी में तैनात हैं तथा कौशांबी महंत नरेन्द्र गिरी के गनर के रूप में नियुक्त हैं। अतः कौशांबी से जांच कराई जानी चाहिए। डाॅ. नूतन ठाकुर ने डीजीपी को दोबारा पत्र भेज कर जांच की मांग की पर अभी तक कोई भी कार्रवाई नहीं की गई है। इसलिए अब लोकायुक्त से शिकायत की गई है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति