Monday , January 17 2022

दिल्ली में डराने लगी कोरोना की रफ्तार, साढ़े छह माह के बाद सामने आए सर्वाधिक 249 नए मामले, एक की मौत

नई दिल्ली। ओमिक्रोन के मामले बढ़ने के साथ ही दिल्ली में कोरोना का संक्रमण तेजी बढ़ रहा है। स्थिति यह है कि 24 घंटे में कोरोना की संक्रमण दर 0.29 प्रतिशत से बढ़कर 0.43 प्रतिशत हो गई है। लिहाजा कोरोना के नए मामले 200 के आंकड़े को पार कर गया है। शनिवार को दिल्ली में कोरोना के 249 मामले जो साढ़े छह माह (195 दिन) में सर्वाधिक है। इससे पहले 13 जून को 255 मामले आए थे। वहीं शनिवार को 96 मरीज ठीक हुए लेकिन कोरोना का संक्रमण बढ़ने के कारण दिल्ली में सक्रिय मरीजों की संख्या एक हजार के करीब पहुंच गई है। इस वजह से स्थिति चिंताजनक बनती जा रही है। पिछले 24 घंटे में कोरोना से एक मरीज की मौत हो गई। इस वजह से इस माह अब तक छह मरीजों की मौत हो चुकी है।

दिल्ली में ओमिक्रोन का पहला मामला पांच दिसंबर को सामने आया था। उस दिन संक्रमण दर 0.11 प्रतिशत थी। इसके बाद से अब तक 20 दिनों में कोरोना की संक्रमण दर चार गुना बढ़ी है और कुल 1704 मामले आए हैं। वहीं 1134 मरीज ठीक हुए हैं।

एक सप्ताह में आए 972 मामले

19 दिसंबर को कोरोना के मामले 100 के पार पहुंच गए थे। उस दिन से लेकर सात दिनों में कोरोना के 972 मामले आ चुके हैं। वहीं पिछले आठ दिनों में कोरोना के 1058 मामले आए हैं। 23 दिसंबर को दिल्ली में कोरोना के 118 मामले आए थे। इस लिहाजा से अब दो दिनों में ही नए मामले दोगुने हो गए हैं।

दिल्ली में कोरोना की मौजूदा संक्रमण दर (0.43 प्रतिशत) 200 दिन (छह माह 20 दिन) में सबसे अधिक है। इससे पहले आठ जून को संक्रमण दर 0.44 प्रतिशत थी। इसके बाद का संक्रमण बहुत कम हो गया था, जो अब पिछले कुछ दिनों से लगातार बढ़ रहा है।

सक्रिय मरीज हुए 934, ढाई गुना बढ़ोतरी

एक दिन पहले दिल्ली में सक्रिय मरीजों की संख्या 782 थी, जो अब बढ़कर 934 हो गई। पांच दिसंबर को जब ओमिक्रोन का पहला मामला आया था तब 370 सक्रिय मरीज थे। इस तरह 20 दिनों में ढाई गुना सक्रिय मरीज बढ़ गए हैं।

कोरोना का संक्रमण बढ़ने से कंटेनमेंट जोन बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 24 घंटे में 41 नए कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं। इस वजह से कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 248 हो गई है।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

कोरोना का कहर

भारत की स्थिति