Friday , December 2 2022

700 से अधिक केस, 2456 गिरफ्तारियाँ, 100 चार्जशीट; 1356 हैं सलाखों के पीछे: दिल्ली दंगों की दूसरी बरसी पर राकेश अस्थाना ने किया खुलासा

दिल्ली में हुए दंगा के दो साल के बीत चुके हैं इसको लेकर अभी भी अदालत में लगातार सुनवाइयाँ की जा रही हैं। इसी क्रम में इन दंगों को लेकर पुलिस द्वारा लिए गए एक्शन को लेकर खुलासा किया गया है। दिल्ली पुलिस के कमिश्नर राकेश अस्थाना ने कहा है कि उसने हिंसा के सिलसिले में 2,456 लोगों को गिरफ्तार किया था। इसमें से 1053 लोगों को रिहा किया गया था, जबकि 1356 आरोपित अभी ज्यूडिशियल कस्टडी में हैं।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली पुलिस के कमिश्नर राकेश अस्थाना ने इसको लेकर जानकारी देते हुए कहा, “जहाँ तक पूर्वोत्तर दिल्ली दंगों का सवाल है, हमने 700 से अधिक मामले दर्ज किए थे। इनमें से करीब 62 मामलों की जाँच क्राइम ब्रांच कर रहा है। एक बड़ी साजिश के एक मामले की जाँच स्पेशल सेल कर रही है। बाकी मामलों की स्थानीय पुलिस थाना स्तर पर जाँच की जी रही है।

अस्थाना के मुताबिक, दिल्ली दंगों के मामले में दिल्ली पुलिस पहले से ही 100 चार्जशीट फाइल कर चुकी है। इसके अलावा जाँच को सफल बनाने के लिए डीसीपी नॉर्थ और स्पेशल सीपी के तहत एक विशेष टीम का गठन किया गया और कई पूरक आरोप पत्र दायर किए गए। 2456 गिरफ्तारियाँ की गईं, जिनमें से 1053 को जमानत पर रिहा कर दिया गया। 1356 अभी भी न्यायिक हिरासत में हैं।

दिल्ली पुलिस कमिश्नर कहते हैं कि दिल्ली दंगों के मामले में 1610 आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई थी, जिसमें से 338 मामलों में संज्ञान लिया गया था। जिन सभी मामलों में चार्जशीट दायर की गई थी, उनमें से 100 के खिलाफ आरोप तय किए गए हैं और ट्रायल शुरू हो गया है। इनमें दो मामलों में अपराध सिद्ध हो गए हैं। बता दें कि दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना दिल्ली पुलिस की वार्षिक प्रेस ब्रीफिंग में बोल रहे थे।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.