Wednesday , June 29 2022

कोयला आधारित 81 बिजली संयंत्रों से उत्पादन घटाया जाएगा, बिजली मंत्रालय ने भेजा पत्र, जानें वजह

नई दिल्ली, रायटर। केंद्र सरकार कोयले पर आधारित 81 बिजली संयंत्रों से उत्पादन में कटौती की योजना बना रही है। बिजली मंत्रालय (Power Ministry) के एक पत्र के अनुसार, उत्पादन में यह कटौती अगले चार वर्षों में की जाएगी। केंद्र और राज्य सरकारों के ऊर्जा विभागों भेजे पत्र में कहा गया है कि इस योजना का मकसद हरित ऊर्जा की संभावनाओं को ज्यादा से ज्यादा बढ़ावा देना और लागत में कमी लाना है।

पत्र में कहा गया है कि इस योजना के जरिये पुराने और खर्चीले बिजली संयंत्रों को बंद नहीं किया जाएगा। देश में कोयले पर आधारित 173 बिजली उत्पादन संयंत्र है। मंत्रालय ने 26 मई को लिखे पत्र में कहा कि थर्मल पावर प्लांट भविष्य में सस्ती नवीकरणीय ऊर्जा को समायोजित करने के लिए तकनीकी पर काम करेंगे। मंत्रालय ने यह पत्र ऐसे वक्‍त में लिखा है बीते अप्रैल में देश को एक गंभीर बिजली संकट का सामना करना पड़ा था।

यही नहीं देश में परमाणु और जल विद्युत जैसे वैकल्पिक स्रोतों के इस्तेमाल की गति भी धीमी रही है। भारत कोयले का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता, उत्पादक और आयातक है। यही नहीं वार्षिक बिजली उत्पादन में कोयले का योगदान लगभग 75 फीसद है। यानी ग्रीन इनर्जी की राह बेहद मुश्किल नजर आ रही है। थिंक टैंक क्लाइमेट रिस्क होराइजन्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि यदि अक्षय ऊर्जा से 175 गीगावाट का उत्‍पादन होता तो हालिया बिजली संकट को टाला जा सकता था।

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.