Sunday , May 26 2024

अमेरिका ने कहा, भारत से सटी सीमाओं के पास अपनी स्थिति मजबूत कर रहा चीन; अपने मित्र देशों के साथ मजबूती से खड़ा है यूएस

अमेरिकी रक्षा मंत्री लायड जेम्स आस्टिन ने शनिवार को कहा कि चीन, भारत से सटी सीमाओं पर लगातार अपनी स्थिति मजबूत कर रहा है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि अमेरिका अपने मित्र देशों के साथ मजबूती से खड़ा है, क्योंकि वे चीन द्वारा जबरन युद्ध की स्थितियां पैदा किए जाने व उसके आक्रामक रवैये के बीच अपने अधिकारों की रक्षा कर रहे हैं।

सिंगापुर में शांगरी-ला संवाद के दौरान आस्टिन ने कहा कि बीजिंग, दक्षिण चीन सागर में अपने क्षेत्रीय दावों को लेकर आक्रामक रुख अपनाते हुए अपनी अवैध समुद्री योजनाएं को आगे बढ़ा रहा है। उन्होंने कहा, ‘पश्चिम की ओर हम चीन को भारत से सटी सीमाओं पर अपनी स्थिति को मजबूत करते हुए देख रहे हैं।’ आस्टिन ने आश्वस्त किया, ‘हम अपनी परस्पर रक्षा प्रतिबद्धताओं को लेकर अटल हैं। अमेरिका भविष्य में किसी भी आक्रामकता से निपटने के लिए पूरी तरह से तैयार है।’ आस्टिन की ये टिप्पणियां तब आई हैं, जब अमेरिका के एक शीर्ष जनरल ने चीन द्वारा लद्दाख में भारत से सटी सीमा के पास बनाए जा रहे कुछ रक्षा ढांचे को चिंताजनक करार दिया है। उन्होंने क्षेत्र में चीनी गतिविधियों को आंखें खोलने वाली बताया।

उल्लेखनीय है कि पैंगोंग झील क्षेत्र में हिंसक झड़प के बाद भारत व चीन की सेनाओं के बीच पांच मई, 2020 से पूर्वी लद्दाख में सीमा पर गतिरोध बना हुआ है। चीन, भारत से सटे सीमावर्ती क्षेत्रों में सड़कों व रिहायशी इलाकों जैसे बुनियादी ढांचों का निर्माण कर रहा है।

jagran

भारत की बढ़ती सैन्य ताकत क्षेत्र में स्थिरता के लिए जरूरी

ताइवान की सुरक्षा के लिए अमेरिका उठाएगा हरसंभव कदम

अमेरिकी रक्षा मंत्री ने कहा कि ताइवान के आसपास चीन की उकसावे व अस्थिरता पैदा करने वाली सैन्य गतिविधियां क्षेत्र के लिए खतरा है। वर्ष 1949 में गृहयुद्ध के बाद ताइवान चीन से अलग हो गया था। चीन अब भी ताइवान को अपना हिस्सा मानता है, जबकि ताइवान खुद को स्वतंत्र लोकतांत्रिक देश बताता है। आस्टिन ने कहा कि अमेरिका, ताइवान की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और इसके लिए हरसंभव कदम उठाने को तैयार है।

कनाडा ने भी लगाया चीन पर दादागीरी का आरोप

कनाडा की रक्षा मंत्री अनिता आनंद ने दादागीरी का आरोप लगाते हुए कहा कि उत्तर कोरिया के पास उनके देश के गश्ती विमानों के साथ चीन का रवैया काफी चिंताजनक व गैर पेशेवर रहा। आरोप है कि उत्तर कोरिया के खिलाफ प्रतिबंधों पर नजर रखने वाले कनाडा के विमानों को चीनी लड़ाकू विमानों ने गत दिनों हवाई मार्ग बदलने के लिए मजबूर कर दिया था। इससे पहले आस्ट्रेलिया ने भी चीनी विमानों पर दादागीरी करने का आरोप लगाया था।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch