Thursday , June 20 2024

एकनाथ शिंदे का खुला ऐलान, 40 विधायकों के साथ सूरत से गुवाहाटी शिफ्ट, BJP सांसद ने संभाला मोर्चा

महाराष्ट्र में मचे सियासी घमासान का मैदान गुजरात के सूरत से अब असम के गुवाहाटी पहुंच चुका है, शिवसेना से नाराज चल रहे एकनाथ शिंदे तथा उनके खेमे के विधायक बुधवार सुबह गुवाहाटी पहुंचे, एकनाथ की ओर से दावा किया जा रहा है कि उनके सथ 40 विधायक हैं, जिसमें 34 शिवसेना के तथा 6 निर्दलीय और दूसरे छोटे दलों के हैं, सभी 40 विधायक विशेष विमान से गुवाहाटी में लैंड कर चुके हैं।

बीजेपी सांसद को एयरपोर्ट पर देखा गया

बताया जा रहा है कि गुवाहाटी में इन विधायकों को रिसीव करने तेजपुर से बीजेपी सांसद पल्लव लोचन दास पहुंचे, बीजेपी सांसद ने विधायकों के पहुंचने के कुछ देर पहले एयरपोर्ट पर देखा गया, हालांकि उन्होने मीडिया से कोई बात नहीं की। वो एयरपोर्ट के वीआईपी एंट्रेंस से भीतर गये, बताया जा रहा है कि वही यहां पर प्रदेश सरकार की ओर से विधायकों को रिसीव करने के लिये एयरपोर्ट पहुंचे, हालांकि ये जानकारी सूत्रों के हवाले से मिली है, इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

3 बसें पहुंची

महाराष्ट्र के इन बागी विधायकों को रिसीव करने के लिये तीन बसें एयरपोर्ट पहुंचे, ये बसें असम परिवहन विभाग की थी, इसके साथ ही राज्य सरकार के कई आला अधिकारी भी उन्हें रिसीव करने पहुंचे, विधायक एयरपोर्ट के पास पांच सितारा होटल रेडिसन ब्लू में रुकेंगे। आपको बता दें कि असम में वर्तमान में बीजेपी सरकार है, शिवसेना मंत्री एकनाथ शिंदे ने पार्टी से बगावत करने के बाद कुछ विधायकों को लेकर गुजरात के सूरत में रखा था, माना जा रहा है कि असम में बीजेपी के शीर्ष नेता तथा प्रदेश सरकार ही बागी विधायकों के रहने-खाने का इंतजाम कर रहे हैं।

गुवाहाटी पहुंचने से पहले शिंदे ने क्या कहा

गुवाहाटी रवाना होने से पहले एकनाथ शिंदे ने सूरत एयरपोर्ट पर बयान दिया था, जिसमें उन्होने कहा कि हमने बालासाहेब ठाकेर की शिवसेना नहीं छोड़ा है और ना ही छोड़ेंगे, हालांकि उन्होने उद्धव ठाकरे और उनकी सरकार को लेकर कुछ नहीं कहा। एकनाथ शिंदे ने कहा कि बालासाहेब ठाकरे के हिंदुत्व का अनुसरण कर रहे हैं, इसे आगे भी करेंगे, एकनाथ शिंदे का बयान ऐसे समय में आया है, जब अटकलें लगाई जा रही थी, कि शिंदे अन्य विधायकों के साथ महाविकास आघाड़ी सरकार को गिराने के लिये बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch