Friday , June 14 2024

असम की दो तस्वीरेंः बागी MLA उड़ा रहे लाखों का खाना, बाढ़ पीड़ितों को 2 कप चावल, 1 कप दाल

नई दिल्ली। असम की राजधानी गुवाहटी पूरे देश में चर्चा का विषय बनी हुई है। नॉर्थ ईस्ट का ये राज्य महाराष्ट्र की राजनीति का अखाड़ा बना हुआ है। शिवसेना के बागी विधायक गुवाहटी के पांच सितारा होटल रेडिसन ब्लू में बैठे हुए हैं। इसके अलावा असम में भयंकर बाढ़ के कारण हजारों लोग बेघर हो चुके हैं। जो तस्वीरें असम बाढ़ की आ रही हैं वो परेशान करने वाली हैं। लोगों को खाना-पीने के पानी के लाले पड़े हुए हैं। वहां के लोगों के घर गृहस्थी सब उजड़ गया। लेकिन देश के उसी हिस्से में पांच सितारा होटल में नेता मौजूद हैं। उस होटल का खर्चा करोड़ों में हैं। सोशल मीडिया पर रेडिसन ब्लू ट्रेंड हो रहा है। लोग इस बात का जिक्र कर रहे हैं कि अगर इन पैसों का कुछ हिस्सा बाढ़ पीड़ितों के लिए खर्च कर दिया जाए तो उनकी जिंदगी में कुछ खुशियां जरूर आएंगी।

हर दिन का खर्च लाखों का
होटेल और स्थानीय नेताओं के सूत्रों के अनुसार गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल के कमरों के लिए सात दिनों का टैरिफ ₹ 56 लाख है। इसमें खाना और अन्य सेवाओं का एक दिन का खर्च लगभग 8 लाख रुपए हैं। इस होटेल में 196 कमरे हैं। विधायकों और उनकी टीमों के लिए बुक किए गए 70 कमरों के अलावा, प्रबंधन नई बुकिंग स्वीकार नहीं कर रहा है। होटेल में अब बस वही लोग आ पा रहे जिनकी बुकिंग पहले से थी। इसके अलावा बैंक्वेट बंद है। गुवाहाटी का एक फाइव स्‍टार होटेल इस समय पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। इसी होटल में श‍िवसेना के बागी विधायक रुके हैं।

70 कमरे बुक
खबरों की मानें तो इन विधायकों के लिए इस होटेल में कुल 70 कमरे बुक किए गये हैं। बागी विधायाकों के साथ एकनाथ श‍िंदे यहां बुधवार 22 जून को पहुंचे। इससे पहले वे इन विधायकों के साथ गुजरात के सूरत में रुके हुए थे। महाराष्ट्र के बागी विधायक इस वक्त असम में रुके हुए हैं। यहां उनका ठिकाना गुवाहाटी का Radisson Blu होटल है। इस बड़े होटल में रुकने के लिए ये बागी विधायक कुल कितना रुपया खर्च कर रहे हैं, इसको लेकर चौंकाने वाला आंकड़ा सामने आया है। पता चला है कि फिलहाल कमरे सात दिन के लिए बुक किये गए हैं, जिनपर कुल खर्च 1.12 करोड़ रुपये के करीब है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch