Friday , August 12 2022

क्या लोकसभा उपचुनाव में राजभर ने ‘पंक्चर’ की अखिलेश की साइकिल? सपा ने लगाया यह बड़ा आरोप

आमजगढ़। उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी और ओम प्रकाश राजभर की सुभासपा के बीच गठबंधन अब नाम भर का रह गया है. सपा और सुभासपा के बीच ताबड़तोड़ जुबानी जंग देखने को मिल रही. इस बीच योगी सरकार की ओर से ओपी राजभर को वाई श्रेणी की सुरक्षा मिलने के बाद सपाई लगातार हमलावर हैं. समाजवादी पार्टी ने ओम प्रकाश राजभर पर लोकसभा उपचुनाव में भितरघात का आरोप लगाया है. इतना ही नहीं, यह भी आरोप लगाया कि राजभर की वजह से ही सपा की उपचुनाव में हार हुई.

सपा प्रवक्ता अशोक यादव ने कहा कि बेटे अरविंद राजभर को एमएलसी न बनाए जाने पर ओम प्रकाश राजभर ने लोकसभा उपचुनाव में भितरघात किया. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि ओपी राजभर और उनके बेटे ने लोकसभा उपचुनाव में भाजपा प्रत्याशी के समर्थन में वोट ट्रांसफर कराया. बता दें कि लोकसभा उपचुनाव में राजभर बाहुल्य क्षेत्रों में सपा की तुलना में भाजपा दोगुने मत को मिले हैं, जबकि विधानसभा चुनाव में सपा इन बूथों पर भाजपा से 3 गुना मत अधिक पाई थी. सपा प्रवक्ता के इस बयान के बाद एक बार फिर गठबंधन की दरार बढ़ गई है. बता दें कि यूपी के आजमगढ़ और रामपुर में भाजपा ने सपाको हराया था.

इससे पहले समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता उदयवीर सिंह ने भी कहा था कि अगर उन्होंने सरकार की मदद की है तो निश्चित तौर पर सरकार भी उनकी मदद करेगी. अगर यही होना था तो हमारी पार्टी पर इतना आरोप-प्रत्यारोप लगाने की क्या जरूरत थी. अगर ओमप्रकाश राजभर जी सरकार के साथ खड़े थे तो उनको हमारी पार्टी पर हमला करना ही था.

उन्होंने कहा कि ओम प्रकाश राजभर जी को महीनों से प्रेस-मीडिया और जनता का समय नष्ट करने से क्या फायदा मिला? ओमप्रकाश राजभर जी सरकार के साथ खड़े थे, पहले ही बता देते. ओम प्रकाश राजभर जी को सुरक्षा की पहले से ही जरूरत थी. उन्होंने आगे कहा कि वाराणसी में जब उन पर हमला हुआ था तब हम सुरक्षा मांगने गए थे. शायद तब सरकार नहीं लगा था कि उन्हें सुरक्षा देना बेहतर है. अब क्योंकि वह सरकार के साथ खड़े हैं तो सरकार का उनके साथ खड़ा होना लाजमी है.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.