Thursday , June 20 2024

दीप्ति शर्मा के सपोर्ट में उतरे रविचंद्रन अश्विन, बोले- मुझे क्यों ट्रेंड कर रहे…

भारतीय महिला टीम ने तीसरे वनडे मैच में इंग्लैंड को 16 रनों से मात देकर सीरीज पर 3-0 से कब्जा कर लिया. लॉर्ड्स में हुए इस मैच में टीम इंडिया की इस जीत में ऑलराउंडर दीप्ति शर्मा का अहम रोल रहा. दीप्ति ने पहले बल्लेबाजी में शानदार 68 रनों की पारी खेली जिसके चलते भारत 169 रनों पर पहुंच सका. वहीं बाद में गेंदबाजी एवं फील्डिंग में भी शानदार खेल दिखाया.

मैच के आखिर में दीप्ति शर्मा ने इंग्लिश बल्लेबाज चार्लोट डीन को मांकड़िंग (रन-आउट) किया, जिसपर बवाल मचा हुआ है. जब भी मांकड़िंग की चर्चा होती है तो भारत के स्टार खिलाड़ी रविचंद्रन अश्विन याद आ जाती है. साल 2019 के आईपीएल के दौरान उन्होंने जोस बटलर को मांकड़िंग किया था. दीप्ति द्वारा डीन के आउट होने के बाद कुछ यूजर्स ने अश्विन के नाम का उल्लेख करते हुए अपने सोशल मीडिया हैंडल पर पोस्ट साझा करना शुरू कर दिया. ऐसे में अश्विन ट्रेंड करने लगे.

आर. अश्विन ने इसके बाद दीप्ति शर्मा का सपोर्ट करते हुए एक दिलचस्प ट्वीट किया. अश्विन ने लिखा, ‘आप अश्विन को क्यों ट्रेंड कर रहे हैं? आज रात एक और बॉलिंग हीरो दीप्ति शर्मा के बारे में है.’

यह पूरा वाकया दीप्ति शर्मा द्वारा फेंके गए इंग्लिश पारी के 44 वें ओवर में हुआ. उस समय इंग्लैंड को जीत के लिए 16 रन बनाने थे और चार्लोट डीन आखिरी बल्लेबाज फ्रेया डेविस के साथ क्रीज पर डटी हुई थीं. उस ओवर की चौथी गेंद को डिलीवर होने से पहले ही नॉन-स्ट्राइकर एंड पर खड़ीं चार्लोट डीन क्रीज से बाहर निकल गई. दीप्ति ने चालाकी दिखाई और बॉल फेंकने के बजाया बेल्स गिराकर आउट की अपील  की.

मांकड़िंग के मुताबिक जब गेंदबाज को लगता है कि नॉन-स्ट्राइकर एंड का बल्लेबाज बॉल के डिलीवर होने से पहले ही अपनी क्रीज से बहुत पहले बाहर निकल रहा है तो गेंदबाज नॉन-स्ट्राइकर छोर पर बल्लेबाज को रन आउट कर सकता है. इसमें गेंद रिकॉर्ड नहीं होती है लेकिन बैटर आउट हो जाता है.

मांकड़िंग करना अब खेल भावना के खिलाफ नहीं

इंग्लैंड के फैन्स एवं खिलाड़ी भले ही दीप्ति शर्मा पर सवाल खड़े कर रहे हैं, लेकिन यदि वे नियमों को एक बार समझ लें तो सबकुछ पूरी तरह स्पष्ट है. आईसीसी के मुताबिक अब मांकड़िंग रन आउट करना उचित है. आईसीसी ने इस साल मांकड़िग को लॉ 41.16 (अनुचित) खेल से रन-आउट नियम (38) में शिफ्ट कर दिया था. मतलब यह है कि अब मांकड़िग करना खेल भावना के विरुद्ध नहीं माना जाता है. एक अक्टूबर से यह नया नियम लागू होने जा रहा है.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch