Monday , April 15 2024

श्रद्धा के मर्डर के बाद आफताब ने पी बीयर और सिगरेट, ऐप से खाना मंगाया… फिर नेटफ्लिक्स पर देखी थी सीरीज

नई दिल्ली। श्रद्धा मर्डर केस में दिल्ली पुलिस आरोपी आफताब से लगातार पूछताछ कर रही है. पूछताछ में एक के बाद एक बड़े खुलासे हो रहे हैं. अब आफताब ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसने श्रद्धा की हत्या के बाद शव के टुकड़े करने में 10 घंटे लगाए. इस बीच जब वो थक गया, तो उसने रेस्ट भी किया. इसके बाद उसने बीयर और सिगरेट पी. उसने शव के टुकड़े को घंटों पानी से धोया. आफताब ने पुलिस पूछताछ में बताया कि उसने शव के टुकड़े करने के बाद ऑनलाइन खाना मंगवाया.  इसके बाद उसने नेटफ्लिक्स पर मूवी देखी.

केमिकल से फर्श किया साफ

आफताब ने पुलिस को बताया की उसने सबूत और साक्ष्य मिटाने के लिए ब्लीच पाउडर का इस्तेमाल किया. इसके अलावा उसने केमिकल का भी इस्तेमाल किया, ताकि खून का एक भी दाग फर्श पर न रहे.

गला दबाकर की हत्या, शव के 35 टुकड़े किए

मुंबई की रहने वाली श्रद्धा वॉल्कर आफताब के साथ दिल्ली के महरौली में एक फ्लैट में लिव इन में रहती थी. आरोप है कि आफताब ने 18 मई को श्रद्धा की गला दबाकर हत्या कर दी थी.  आफताब के मुताबिक, श्रद्धा उस पर शादी को लेकर दबाव डाल रही थी. आफताब ने इसके बाद श्रद्धा के शव के 35 टुकड़े किए. उसने टुकड़ों को रखने के लिए एक फ्रिज भी खरीदा था. आफताब ने श्रद्धा के शव के टुकड़ों को फ्रिज में रखा था. वह रोज रात में शव के टुकड़े को महरौली स्थित जंगल में फेंकने जाता था. उसने ऐसा करीब 20 दिन तक किया.

हत्या के बाद उसी फ्लैट में रह रहा था आफताब

पुलिस के मुताबिक, आफताब हत्या के बाद भी उसी फ्लैट में रहता रहा और ऑनलाइन ऐप के जरिए खाना ऑर्डर करता था. वह 9 जून तक श्रद्धा की हत्या के बाद उसका सोशल मीडिया अकाउंट चलाता रहा और उसके दोस्तों से बात करता रहा. उसने श्रद्धा के अकाउंट से पैसे भी ट्रांसफर किए. पुलिस के मुताबिक, आफताब इस दौरान दूसरी लड़कियों के साथ भी संपर्क में रहा और उन्हें भी अपने घर पर लाता था.

हत्या के 5 महीने बाद खुला राज

श्रद्धा के बचपन के दोस्त लक्ष्मण नाडर की चिंता ने ही श्रद्धा हत्याकांड का पर्दाफाश कराया. परिवार से तो दिल्ली आने के बाद श्रद्धा ने बातचीत करना बंद कर दिया था. मगर, वह अपने बचपन के दोस्त लक्ष्मण से संपर्क में थी. श्रद्धा ने बॉयफ्रेंड आफताब के व्यवहार के बारे में लक्ष्मण को भी बताया था. मगर, बाद में लक्ष्मण के मैसेज का जवाब देना बंद कर दिया. कई दिनों तक लक्ष्मण का संपर्क श्रद्धा से नहीं हो सका. तब उसे लगा कि कहीं कुछ तो गलत है. फिर श्रद्धा के भाई और पिता को बताया कि श्रद्धा संपर्क नहीं हो पा रहा है और उसका फोन भी बंद आ रहा है. इसके बाद मामला पुलिस तक पहुंचा और श्रद्धा की बेहरमी से हत्या किए जाने के मामले का खुलासा हुआ.

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch