Monday , December 5 2022

भूकंप से दहला इंडोनेशिया, कम से कम 46 लोगों की मौत और 300 के घायल होने की खबर

इंडोनेशिया के लोम्बोक द्वीप में आए तेज भूकंप में मरने वालों की संख्या 91 पर पहुंच गई है। भूकंप में हजारों इमारतों के जमींदोज होने के बाद लोकप्रिय पर्टयन स्थल के प्रसिद्ध होटलों और रिजॉर्ट में ठहरे सैकड़ों पर्यटकों से जगह खाली कराई गई और वहां बचावर्किमयों को भेजा गया। भूकंप के बाद पर्यटकों और स्थानीय लोगों में दहशत है। इससे एक हफ्ते पहले भी लोम्बोक में घातक भूकंप आया था जिसमें कम से कम 17 लोगों की जान चली गई थी।

बता दें कि, इंडोनेशिया में रविवार को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। भूकंप काफी जोर का था जिसका रिक्टर स्केल पर 7.0 मैग्नीट्यूड मापी गई है। भूकंप के तेज झटके महसूस होने पर लोग घरों, होटलों और रेस्टोरेंट के बाहर निकल आए थे। इंडोनेशिआई मौसम विज्ञान एजेंसी ने सुनामी की चेतावनी जारी कर दी गई थी।

अधिकारियों ने सुनामी की चेतावनी जारी करते हुए लोगों से समुद्र के आस-पास नहीं जाने की अपील की है। मौसम विज्ञान और भू-भौतिकी एजेंसी (बीएमकेजी) ने बताया कि पिछले हफ्ते 100 से ज्यादा बार भूकंप के झटके महसूस जिसकी तीव्रता 6.4 थी। एक सप्ताह पहले ही इस द्वीप पर आए भूकंप में 91 व्यक्तियों की मौत हो गई थीं।

इंडोनेशिया के मुख्य द्वीप जावा में सोमवार को 5.4 तीव्रता का भूकंप आया, जिसमें कम से कम 46 लोगों की मौत हो गई और करीब 300 लोग घायल हो गए. एक स्थानीय अधिकारी ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने आगे कहा कि लगभग एक दर्जन इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं. यूएस जियोलॉजिकल सर्वे के अनुसार, भूकंप पश्चिम जावा प्रांत के सियांजुर क्षेत्र में केंद्रित था, जिसकी गहराई 10 किलोमीटर (6.2 मील) थी.

सियांजुर जिले के स्थानीय अधिकारियों ने कहा कि घरों सहित दर्जनों इमारतें क्षतिग्रस्त हो गईं. ग्रेटर जकार्ता क्षेत्र में भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए. राजधानी में गगनचुंबी इमारतें तीन मिनट से अधिक समय तक हिलती रहीं और कुछ को खाली करा लिया गया.

दक्षिण जकार्ता में एक कर्मचारी विडी प्रिमाधनिया ने कहा, “भूकंप इतना तेज महसूस हुआ…मेरे सहयोगियों और मैंने नौवीं मंजिल पर आपातकालीन सीढ़ियों के साथ हमारे कार्यालय से बाहर निकलने का फैसला किया.” रॉयटर्स के मुताबिक, कुछ लोगों ने जकार्ता के केंद्रीय व्यापार जिले में कार्यालयों को खाली कर दिया, जबकि अन्य लोगों ने इमारतों को हिलते हुए महसूस किया और फर्नीचर को हिलते हुए देखा.

बता दें कि विशाल द्वीपसमूह राष्ट्र में अक्सर भूकंप आते हैं, लेकिन जकार्ता में उन्हें महसूस करना असामान्य है. इंडोनेशिया, 270 मिलियन से अधिक लोगों का एक विशाल द्वीपसमूह, “रिंग ऑफ फायर” पर अपने स्थान के कारण अक्सर भूकंप, ज्वालामुखी विस्फोट और सूनामी से प्रभावित होता है, जो प्रशांत बेसिन में ज्वालामुखियों और दोष रेखाओं का एक चाप है.

फरवरी में, पश्चिम सुमात्रा प्रांत में 6.2 तीव्रता के भूकंप में कम से कम 25 लोगों की मौत हो गई और 460 से अधिक घायल हो गए थे. जनवरी 2021 में, पश्चिम सुलावेसी प्रांत में 6.2 तीव्रता के भूकंप से 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई और लगभग 6,500 लोग घायल हुए थे. 2004 में एक शक्तिशाली हिंद महासागर भूकंप और सूनामी ने एक दर्जन देशों में लगभग 230,000 लोगों की जान ले ली, जिनमें से अधिकांश इंडोनेशिया में थे.

About I watch

Leave a Reply

Your email address will not be published.