Sunday , April 14 2024

…तो पुरानी पेंशन शुरू करने जा रही BJP सरकार? RSS नेताओं ने वित्तमंत्री को क्या-क्या शुरू करने की दी सलाह

नई दिल्ली।  अगले वित्त वर्ष 2023-24 के लिए बजट पेश करने से पहले केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ी संस्थाओं के कई नेताओं से मुलाकात की है। इस दौरान कई नेताओं ने उन्हें पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने का सुझाव दिया है। 21 से 28 नवंबर के बीच आयोजित इन बैठकों में संघ से जुड़े नेताओं ने अगले बजट में 51 गौ केन्द्रित विश्वविद्यालयों की स्थापना का भी सुझाव दिया है।

केंद्र की सत्ता पर काबिज भारतीय जनता पार्टी का वैचारिक स्रोत रहे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठन हमेशा से ही सरकार की राजकोषीय नीतियों के समर्थन में नहीं रहे हैं और उन्हें बदलने की सलाह देते रहे हैं। उदाहरण के लिए पिछले साल आरएसएस ने बेरोजगारी से निपटने के लिए एक प्रस्ताव पास कर भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए ‘आत्मनिर्रता’ बढ़ाने का सुझाव दिया था, ताकि देश के अंदर निर्माण उद्योगों का विकास हो सके और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश पर जोर घटाया जा सके।

भारतीय किसान संघ के नेताओं ने केंद्रीय वित्त मंत्री सीतारमण से देशभर में 51 गौ विश्वविद्यालयों की स्थापना का सुझाव दिया है, ताकि देशभर में ऑर्गेनिक फार्मिंग को बढ़ावा मिल सके और उस दिशा में सार्थक शोध हो सके। बीकेएस ने देशभर में 22000 हाट भी विकसित करने का सुझाव दिया है, ताकि ग्रामीण स्तर पर कृषि उपज को बाजार मिल सके। 2018-19 के बजट में अरुण जेटली ने इसके लिए 2000 करोड़ रुपये का प्रावधान भी किया था।

बीएमएस के महासचिव रवींद्र हिमते ने कहा कि संगठन ने नीतिगत ढांचे के माध्यम से सभी श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा, न्यूनतम स्वास्थ्य कवर और पेंशन लाभ की भी मांग वित्त मंत्री से की है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch