Saturday , April 20 2024

पीएम मोदी ने की कोरोना से बचने की तैयारियों की समीक्षा: मास्क और दो गज की दूरी, जान बचाने के लिए फिर जरूरी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कोरोना के संबंधी हालात की समीक्षा के लिए हाईलेवल मीटिंग की है। पीएम की रिव्यू मीटिंग में मंत्रियों व टॉप ऑफिसर्स की मौजूदगी रही। दरअसल, चीन में मचे हाहाकार के बीच भारत में भी कोरोना के चार मामले सामने आए हैं। उधर, देश-दुनिया को तेजी से अपनी चपेट में ले रहे कोरोना को देखते हुए क्रिसमस व न्यू ईयर की पार्टियों के लिए गाइडलाइन जारी किए गए हैं। सरकार ने एक बार फिर कोविड प्रोटोकॉल्स को जारी कर मॉस्क लगाने सहित अन्य एडवाइज दी है।

पीएम मोदी ने कोरोना केसों में बढ़ोत्तरी रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाने को कहा

प्रधानमंत्री मोदी ने रिव्यू मीटिंग में कोविड की स्थितियों की समीक्षा करने के साथ इमरजेंसी के लिए सभी तैयारियां पहले से अलर्ट मोड में रखने की सलाह दी। उन्होंने अस्पतालों, बेड, डॉक्टर्स और अन्य आवश्यक उपकरणों व दवाईयों के संबंध में जानकारी ली। कोविड वैक्सीन व बूस्टर डोज देने में तेजी लाने का आदेश दिया।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने मॉस्क और सोशल डिस्टेंशिंग की सलाह दी

पीएम की मीटिंग के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बार फिर एडवाइजरी जारी कर राज्यों को क्रिसमस और नए साल के जश्न के दौरान मास्क और सामाजिक दूरी पर जोर देने और भीड़ को रोकने की सलाह देते हुए एक नोट जारी किया गया है। सरकार ने पहले ही विदेश से आने वालों की रैंडम टेस्टिंग शुरू कर दी है। अगले सात दिनों में आइसोलेशन और टेस्टिंग के लिए बुनियादी ढांचे को फिर से स्थापित किए जाने की संभावना है।

गुजरात और ओडिशा में बीएफ 7 वेरिएंट के चार मामले

BF.7 संस्करण के दो मामले गुजरात में और दो ओडिशा में दर्ज किए गए। यह मामले बीते जुलाई, सितंबर और नवंबर में सामने आए थे। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने कहा कि गुजरात में दोनों मरीजों का इलाज होम आइसोलेशन में रखा था। बताया जा रहा है कि दोनों बिल्कुल ठीक हो चुके हैं।

देश में दस कोविड वेरिएंट्स सक्रिय

रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश में इस वक्त 10 कोविड वैरिएंट हैं, जिनमें लेटेस्ट BF.7 है। हालांकि, भारत में अभी कोरोना के बेहद कम मामले हैं लेकिन चीन द्वारा अपने कड़े जीरो-कोविड रूल्स को समाप्त करने के बाद कोविड मामलों में भारी वृद्धि ने वैश्विक चिंता को बढ़ा दिया है।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch