Sunday , April 14 2024

कश्‍मीर बेचा, अभिनंदन को छोड़ा… जरदारी, शरीफ और इमरान एटम बम से भी खतरनाक, बौखलाया पाकिस्‍तानी नेता

इस्‍लामाबाद। कश्‍मीर को लेकर भारत के खिलाफ बेहद जहरीले बयान देने वाली पाकिस्‍तान की कट्टरपंथी पार्टी जमात-ए- इस्‍लामी के मुखिया सिराजुल हक ने इमरान खान, नवाज शरीफ परिवार और आसिफ अली जरदारी को एटम बम से भी खतरनाक बताया है। जमात के नेता सिराजुल हक ने कहा कि ये तीनों ही जापान के हिरोशिमा शहर पर गिराए गए परमाणु बम की तुलना में ज्‍यादा खतरनाक हैं। उसने कहा कि शरीफ, इमरान और जरदारी ने कश्‍मीर को ही बेच दिया है। उसने भारतीय पायलट अभिनंदन को लेकर भी निशाना साधा।

सिराजुल हक ने कहा कि इन तीनों ही पाकिस्‍तानी नेताओं ने तोशाखाना, घरों, कोर्ट, अर्थव्‍यवस्‍था, उद्योगों, नैतिकता और शिक्षा व्‍यवस्‍था को तबाह कर दिया है। उसने कहा, ‘इन तीनों ने देश की विचारधारा के साथ धोखा किया और कश्‍मीर को एक साथ मिलकर बेच दिया।’ हक ने दावा किया कि जरदारी, शहबाज और इमरान खान तीनों ही बार-बार अमेरिका का दौरा किया जहां उन्‍होंने बाइडन और ट्रंप से मुलाकात की। उन्‍होंने सारे मुद्दे पर बात की लेकिन डॉक्‍टर आफ‍िया सिद्द‍ीकी के प्रत्‍यर्पण के बारे में बात नहीं की।

इमरान खान ‘अंतरराष्‍ट्रीय भिखारी’

हक ने कहा कि इन तीनों ही पाकिस्‍तानी नेताओं ने डॉक्‍टर आफिया के बारे में एक भी शब्‍द नहीं कहा। उसने कहा, ‘गद्दारों ने रामजी युसूफ को बेच दिया जबकि अभिनंदन को भारत के शासकों को सौंप दिया।’ उसने आरोप लगाया कि पाकिस्‍तानी शासक डाक्‍टर अब्‍दुस सलाम को अमेरिका को सौंप रहे हैं। हक ने कहा, ‘इमरान खान अमेरिका के खिलाफ बयान देते हैं लेकिन उसके बाद फवाद चौधरी को अमेरिकी काउंसलेट भेजा जाता है और माफी भी मांगी जाती है।

जमात नेता ने कहा कि ये जनरल अल्‍लाह को जवाब देंगे जो अनाकोंडा सांप बनकर देश को निचोड़ डाला। उसने कहा कि सेना देश में अलग-अलग चाल चल रही है। उसने खुलासा किया कि इमरान खान की पार्टी के शासन वाले खैबर पख्‍तूनख्‍वा प्रांत पर 900 अरब डॉलर का कर्ज है। हक ने कहा कि अगर उसकी पार्टी सत्‍ता में आई तो आईएमएफ से कर्ज नहीं लेना पड़ेगा। उसने कहा कि अगर जमात की सरकार बनेगी तो भ्रष्‍ट नेताओं को जेल में डाल दिया जाएगा। इससे पहले हक ने इमरान खान को अंतरराष्‍ट्रीय भिखारी तक करार दिया था।

साहसी पत्रकारिता को सपोर्ट करें,
आई वॉच इंडिया के संचालन में सहयोग करें। देश के बड़े मीडिया नेटवर्क को कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर इन्हें ख़ूब फ़ंडिग मिलती है। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें।

About I watch